VIP Ne Nitish kumar ka putla funka

नया मोटर वाहन अधिनियम लागू करने के विरोध में विकासशील इंसान पार्टी ने फूंका नीतीश कुमार का पुतला

227

पटना। बिहार सरकार द्वारा प्रदेश में नया मोटर वाहन अधिनियम लागू करने के विरोध में विकासशील इंसान पार्टी द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला दहन किया गया. पटना के डाकबंगला चौराहे पर पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव छोटे सहनी के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं द्वारा पुतला दहन तथा प्रदर्शन किया गया.

इस दौरान छोटे सहनी ने कहा कि नया मोटर वाहन अधिनियम जनता के साथ अन्याय है. इस समय जब देश आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहा है ऐसे में यह कानून जनता की परेशानी का सबब बन गया है. चालान के नाम पर लोगों से हजारों रूपये वसूले जा रहे हैं. इस कानून के तहत देशभर में लोगों के 25 हजार से लेकर 37 हजार तक के चालान काटे जा रहे हैं.

साथ ही चालान काटने के दौरान नागरिकों के साथ ट्रैफिक पुलिस का रवैया अत्यंत बुरा तथा दुर्व्यवहार वाला है. जनता इससे त्रस्त हो रही है. उन्होंने कहा कि चालान में इस अचानक हुई बढोत्तरी से आम जनता में हडकंप मचा हुआ है. साथ ही पुलिस को मनमाने लूट की छूट मिल गई है. सरकार का यह फैसला जनविरोधी है तथा इससे जनता को सड़क पर चलने में अत्यंत परेशानी हो रही है.

उन्होंने कहा कि बड़े-बड़े राज्यों में यह कानून अभी तक लागू नहीं किया गया है. हर राज्य की स्थिति एक समान नहीं होती. इसलिए किसी भी तरह का कानून लागू करने से पहले राज्य की स्थिति-परिस्थिति को समझना जरुरी होता है. सबसे पहले सरकार को जन-जागरूकता अभियान चलाना चाहिए था. उन्होंने साफ़ कहा कि सरकार अपनी जिम्मेदारियों से भाग रही है. इस कानून के लागू होने से पुलिस-प्रशासन को जनता को लूटने की खुली छूट मिल गई है.

उन्होंने बिहार सरकार से अविलंब इस कानून को वापस लेने की मांग की है. पार्टी के पटना जिलाध्यक्ष अर्जुन सहनी ने कहा कि सरकार के इस फैसले से जनता को अत्यंत परेशानी हो रही है. मोदी सरकार द्वारा आनन-फानन में नया मोटर वहां कानून बनाकर बेतहाशा ट्रैफिक टैक्स बढ़ा दिया गया तथा राज्य सरकार द्वारा इसे तुरंत ही लागू कर दिया गया. सरकार को जनता की परेशानी से ज़रा भी सरोकार नहीं रह गया है. साथ ही सरकार जनता की परेशानी को समझने में नाकाम है.

इस अवसर पर छात्र वीआईपी के प्रदेश अध्यक्ष विकास कुमार बॉक्सर, नागेन्द्र सहनी, आजाद सहनी, आदित्य सहनी, नवीन सहनी, पिंकी कुमारी प्रसाद, शीला देवी, सुमन सहनी, शशि रंजन, सतेन्द्र सहनी, संतोष सहनी, लवली निषाद, सूरज निषाद तथा रुपेश निषाद सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया.