villagers are not getting facilities

एक ही परिवार के हर सदस्यो का जाति अलग-अलग कैसे, पढ़ें- यह चौंकाने वाली स्टोरी

138

प्रीति कुमारी की रिपोर्ट,

 यूपी. उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद  में आपूर्ति विभाग कार्यालय की बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां पर पहले तो महकमे ने बिना जांच किए एक महिला के नाम राशन कार्ड बना दिया गया और फिर उसके परिवार में 9 सदस्य दर्शा दिए। सबसे हैरानी की बात तो यह है कि परिवार के अधिकांश सदस्यों की जाति अलग अलग है और महिला के सभी आठ सदस्यों को बेटी-बेटे तथा एक युवक को देवर होना दर्शाया गया है।

खास बात यह है कि परिवार के सभी सदस्यों के पिता के नाम भी अलग अलग हैं। मामला उजागर होने पर विभागीय अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है।वहीं, अधिकारी मामले को दबाने में जुटे हैं।

मोदीनगर की दुकान संख्या 10090741 पर लक्ष्मी नाम की महिला का पिछले दिनों राशन कार्ड जारी कर दिया गया।आरोप है कि महिला अपात्र होने के बावजूद राशन भी लगातार लेकर सरकार की आंखों में धूल झोंक कर रही है। बिसोखर के कुछ लोग सोमवार को तहसीलदार से मिले और राशन कार्ड दिखाते हुए मामले में कार्रवाई की मांग की।
वहीं, लोगों ने आरोप लगाया कि आपूर्ति विभाग के अधिकारियों ने राशन डीलर के साथ मिले हुए हैं और फर्जी राशन कार्ड बनाते हैं। जिनपर राशन डीलर राशन निकालकर सरकार की आंखों में धूल झोंकने का काम कर रहे है। तहसीलदार उमाकांत तिवारी का कहना है कि मामले की जांच आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को सौंपी है। इस बारे में आपूर्ति अधिकारी एसपी मौर्य से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि यह बड़ी त्रुटि है। कहां और किस स्तर पर हुई इसकी जांच की जा रही है।
राशन कार्ड में दिया गया नाम
1-लक्ष्मी पिता रूपचंद रूरकीवाल (धारक)
2-विरेंद्र कुमार पिता राजय लाल गोयल (बेटा)
3-राजकुमार पिता रामसिंह (देवर)
4-आजाद पिता मुस्तकीम (बेटा)
5-आकाश तोमर पिता मंगल सैन तोमर (बेटा)
6-मेनका शर्मा पिता मंगलसेन तोमर (बेटा)
7-आरती शर्मा पिता पवन शर्मा (बेटी)
8-शारदा पिता राजकुमार (बेटी)
9-आयुष त्यागी पिता प्रशांत कुमार त्यागी (बेटा)