BREAKING NEWS
Search
पापुलर

फ़ूड पॉयज़निंग के ईलाज का बिल 50 हजार, निजी हास्पिटल का एक और कारनामा

322

कैनेडियन टूरिस्ट के साथ निजी हास्पिटल के स्टॉफ़ नें की हाथापाई, मामला पहुँचा भेलूपूर थानें…

Tabish Ahmed

ताबिश अहमद

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: प्राईवेट हास्पिटल का एक और गैर जिम्मेदाराना मामला प्रकाश में आया है। शहर के पापुलर हास्पिटल में एक विदेशी महिला फ़ूड पॉइज़निंग की शिकायत पर एडमिट हुई थी। उसका आरोप है कि डाक्टरों ने इलाज के बाद डिस्चार्ज होने पर उसे 50 हज़ार का बिल थमा दिया। इसके बाद महिला और उसके पति ने वाराणसी पुलिस से मदद की गुहार लगायी है।

कनाडा की रहने वाली महिला मेडिसन का आरोप है कि उन लोगों ने जब बीमा कंपनी से इस बाबत हास्पिटल को संपर्क करने के लिये कहा तो कर्मचारियों ने उन्हे डिस्चार्ज करने से इंकार कर दिया और  हाथापाई भी की। उसी समय वहां से जा रहे मरीन इंजिनियर ने जब यह मामला देखा तो वह कनाडा के रहने वाले दोनो पति पत्नी को भेलूपुर थाने ले आया। फिलहाल पुलिस पापुलर हास्पिटल के अधिकारीयों से जानकारी ले रही है।

इस सम्बन्ध में विदेशी जोड़े को हास्पिटल कर्मचारियों की हाथापाई से बचाने वाले मरीन इंजिनियर धीरज पाटिल ने बताया कि मै मंडुआडीह स्टेशन कि तरफ से आ रहा था। उसी समय जब मै पापुलर हास्पिटल के सामने से गुज़र रहा था तो मैंने देखा कि दो विदेशी नागरिकों को हास्पिटल के कर्मचारी पकड़ रहे हैं। तो मैंने रूककर पूछा तो इन लोगों ने बताया कि इनका कुछ पैसा बाकी है।

इस पर मैंने जब कनाडा की रहने वाली विदेशी महिला मेडिसन से बात की तो उन्होंने बताया कि वो दो दिन से यहां फ़ूड पॉइज़निंग की वजह से एडमिट थी। मैंने हॉस्पिटल से कहा था कि अगर दस हज़ार तक का बिल होगा तो वो कैश करेंगी। लेकिन जब दो दिन बाद मै डिस्चार्ज होने लगी तो अस्पताल के लोगों ने कहा कि हम कैशलेस पेमेंट की व्‍यवस्‍था कर रहे हैं और मुझे 45 हज़ार का एक बिल पकड़ा दिया जबकि मै 10 हज़ार आलरेडी इन्हे दे चुकी थी।

धीरज के अनुसार इसके बाद दोनों विदेशी मेहमानों को वह अपने साथ भेलूपुर थाने लेकर आये। अब पुलिस इस मामले में कार्रवाई कर रही है। धीरज ने बताया कि मै भी मरीन इंजिनियर हूं और बखूबी जनता हूं कि फ़ूड पॉइज़निंग के इलाज में कितना खर्च होता है। इनका हेल्थ बीमा कार्ड है उस कार्ड को देखने के बाद इनको एकाएक 50 हज़ार का बिल थमाना सीधे सीधे एक फ्राड की और संकेत कर रहा है।

इस सम्बन्ध में कनाडा की रहने वाली मेडिसन ने बताया कि मै और मेरे साथी एंड्रू पिछले चार महीनो से भारत भ्रमण पर हैं और एक हफ्ते पहले ही हम वाराणसी पहुंचे हैं। दिल्ली से वाराणसी आते समय ही मेरे पेट में दर्द शुरू हुआ था पर वह नार्मल था। दो दिन दिन पहले ज़्यादा दर्द होने पर नेट से हॉस्पिटल सर्च करके मेडिसन को पॉपुलर हॉस्पिटल में एंड्रू ने मुझे एडमिट करवाया था।

यहां एडमिट होने पर मुझे बताया गया था कि दस हज़ार का खर्चा आयेगा नार्मल फ़ूड पॉइज़निंग है। इस पर मै यहां एड्मिट हो गयी और हमें बताया गया कि आप का बिल 50 हज़ार हो गया है। हमने कहा कि हमें जाने दो तो हमें जाने भी नहीं दे रहे थे। फिलहाल भेलूपुर पुलिस ने इस मामले में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है। खबर लिखे जाने तक पुलिस हॉस्पिटल के अधिकारियों से पूछताछ करने में व्यस्त थी।