मीरजापुर पहुँचकर प्रियंका नें विंध्यवासिनी की चरणों में टेका मत्था, कंतित शरीफ में चढ़ाई चादर

171

प्रियंका गांधी के मीरजापुर पहुँचते ही लगने लगे ज़िन्दाबाद के नारे, एक झलक के लिये उमड़ा जनसैलाब…

निसार अहमद

निसार अहमद की रिपोर्ट

 

 

 

 

 



मीरजापुर: कांग्रेस की पूर्वांचल प्रभारी प्रियंका वाड्रा ने मां विध्यवासिनी के चरणों में मंगलवार को मत्था टेका और विधि विधान से मां विध्यवासिनी का पूजन अर्चन किया। इसके बाद कंतित स्थित हजरत ख्वाजा इस्माइल चिश्ती की दरगाह कंतित शरीफ पर चादर चढ़ाया और मन्नतें मांगी। प्रियका वाड्रा ने विध्य धाम से मीरजापुर में लोकसभा चुनाव का बिगुल फूंका। प्रियंका गांधी को देखने के लिए बड़ी संख्या में जनमानस उमड़ पड़ा था।

विध्याचल धाम में पूर्वांचल प्रभारी पूर्व निर्धारित समय से लगभग तीन घंटे विलंब से मंदिर पहुंची। मंगलवार को लगभग दो बजकर 25 मिनट पर विध्यधाम पहुंची। तीर्थ पुरोहित सुमित पांडेय ने विधि विधान से मां विध्यवासिनी का दर्शन पूजन कराया। प्रियंका वाड्रा ने मां विध्यवासिनी को बनारसी साड़ी, चुनरी, नारियल, प्रसाद, धूप, दीप व नवैदय आदि से विधि विधान से पूजन किया। पूरा मंदिर परिसर रामजी पांडेय, अमित पांडेय, भरत पांडेय, अनुपम पांडेय और अंश पांडेय के मंत्रोच्चार से गुंजायमान हो उठा। तीर्थ पुरोहित सुमित पांडेय ने कहा कि मां विध्यवासिनी एक जागृत शक्तिपीठ होने के कारण मान्यता है कि इसका अस्तित्व सृष्टि आरंभ होने से पूर्व और प्रलय के बाद भी रहेगा। यहां देवी के तीन रूपों का सौभाग्य भक्तों को प्राप्त होता है। पुराणों में विध्य क्षेत्र का महत्व तपोभूमि के रूप में वर्णित है। इसके चलते मां विध्यवासिनी देवी मंदिर श्रद्धालुओं की आस्था का प्रमुख केंद्र है। त्रिकोण यंत्र पर स्थित विध्याचल निवासिनी देवी लोकहिताय, महालक्ष्मी, महाकाली, महासरस्वती का रूप धारण करती हैं। विध्यवासिनी देवी विध्य पर्वत पर स्थित मधु तथा कैटभ नामक असुरों का नाश करने वाली भगवती यंत्र की अधिष्ठात्री देवी हैं। मां विध्यवासिनी का पूरे मनोयोग से पूजन अर्चन करने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है। दर्शन पूजन के दौरान ललितेशपति त्रिपाठी, एसडीएम सदर गौरव श्रीवास्तव, नायब तहसीलदार योगेंद्र शरण शाह आदि मौजूद रहे।

Watch Video


षोडषोपचार विधि से किया मां का पूजन

पूर्वांचल प्रभारी प्रियंका वाड्रा ने मां विध्यवासिनी का षोडषोपचार विधि से विधि विधान से पूजन अर्चन किया। तीर्थ पुरोहित सुमित पांडेय ने पत्र, पुष्प, इत्र, वस्त्र, आभूषण, नैवेदय और मंत्र पुष्पांजलि सहित 16 प्रकार से मां विध्यवासिनी देवी का पूजन व गुलाब जल से जलाभिषेक कराया गया। उन्होंने बताया कि पूजन अर्चन के पूर्व प्रियंका वाड्रा को मंत्रोंच्चर के द्वारा शुद्धि कराकर संकल्प कराया गया। इसके बाद मां विध्यवासिनी का विधि विधान से पूजन कराया। मां विध्यवासिनी के बाद अपने तीर्थ पुरोहित के राधा कृष्ण मंदिर भी पहुंची और तीर्थ पुरोहित ने मंत्र पुष्पांजलि दिया गया। तीर्थ पुरोहित ने प्रियंका गांधी वाड्रा को माता का प्रसाद चुनरी दिया। उन्होंने पुस्तैनी बही खाता पर अपने विचार को लिखा। उन्होंने लिखा कि आज यहां आकर, अपने पूर्वजों के पंडों से मिलकर सब की श्रद्धा का एहसास होते हुए मुझे बहुत खुशी हुई, जय माता दी। प्रियंका गांधी वाड्रा।

कंतित शरीफ पर चादर चढ़ा जनता से हुई रूबरू

मां विध्यवासिनी के दर्शन पूजन के बाद दोहपर तीन बजकर 14 मिनट पर कंतित स्थित हजरत ख्वाजा इस्माइल चिश्ती की दरगाह चादर चढ़ाने पहुंची। कंतित शरीफ में कांग्रेसजनों ने गर्म जोशी से उनका स्वागत किया। कंतित में चादर चढ़ाने के बाद लोगों से हाथ मिलाकर अभिवादन स्वीकार किया। मौजूद लोगों से मिलकर बातचीत भी किया। इस दौरान मौजूद लोगों द्वारा राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के जोरदार नारे लगाए। कोमोडोर सरताज इमाम, शहर अध्यक्ष अब्दुल वहीद, आशीष बुधिया, राजेंद्र चुनमुन शुक्ला, अर्चना चौबे, सोनावर खां, संजय मालवीय, कौशल पवाधा, जनार्दन रस्तोगी, जफर इकबाल, जुबैदा खातुन, ताज बानों, कुददुस आदि ने स्वागत किया।