BREAKING NEWS
Search
PUBG MOBILE IN GOVERNMENT BAN RADAR

47 और चीनी ऐप्स भारत में हुए बैन, PUBG समेत 275 ऐप्स भी हैं रडार पर

190

New Delhi: यूजर्स डाटा प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने पिछले महीने 59 ऐप्स को बैन किया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार ने इन ऐप्स के बाद 47 और चीनी ऐप्स को बैन किया है। पिछले शुक्रवार सरकार ने इन 47 ऐप्स को बैन करने का फैसला लिया है। चीनी ऐप्स कंपनियों द्वारा भारतीय यूजर्स के डाटा की चोरी को रोकने के लिए सरकार ने एक बार फिर से कड़ा फैसला लिया है। सरकार का यह फैसला 59 ऐप्स के बैन होने के महज कुछ दिनों बाद ही लिया गया है। इन ऐप्स को भी यूजर्स के डाटा प्राइवेसी के उल्लंघन को ध्यान में रखते हुए बैन करने का आदेश जारी किया है।

पिछले महीने सरकार ने TikTok, CamScanner, Shareit, UC Browser समेत 59 ऐप्स को बैन किए गए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, केन्द्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय ने इन ऐप्स को डायरेक्टली या इनडायरेक्टली डाटा चोरी में संलिप्त पाया है। जिसके बाद इन 47 ऐप्स को बैन किया गया है। पिछले महीने 59 ऐप्स को बैन करने के बाद सरकार ने कहा था कि भारतीय यूजर्स का डाटा किसी भी तरह प्रोफिट एलिमेंट्स नहीं बन सकता है। ये भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा और संप्रभुता को प्रभावित करता है। सरकार के आदेश के बाद ही सभी 59 ऐप्स को तत्काल प्रभाव से Google Play Store और Apple App Store से हटा लिया गया।

सरकार द्वारा बैन किए गए इन 59 और 47 ऐप्स के बाद 275 और ऐप्स भी सरकार के रडार पर हैं, जिनमें PUBG समेत कई और ऐप्स भी शामिल हैं। इन 275 ऐप्स में से ज्यादातर ऐप्स Xiaomi और Alibaba ग्रुप के ऐप्स हैं। इन ऐप्स के अलावा Byte Dance, ULike समेत कई और चीनी कंपनियों के ऐप्स शामिल हैं। इन सभी ऐप्स को सरकार द्वारा क्लोजली मॉनिटर किया जा रहा है। इन 275 ऐप्स के द्वारा भी भारतीय यूजर्स के डाटा लीक होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं। भारत की साइबर सिक्युरिटी की रक्षा करने के लिए सरकार लगातार इन ऐप्स पर नजर बनाए रखी है।

ET की रिपोर्ट के मुताबिक, Xiaomi के 14 ऐप्स जिनमें Capcut, FaceU आदि शामिल हैं उन्हें रडार पर रखा गया है। चाइनीज इंटरनेट एवं अन्यं कंपनियों के ऐप्स जैसे कि Meitu, LBE Tech, Perfect Corp, Sina Corp, Netease Games, Yoozoo Global आदि भी रडार पर हैं। इन ऐप्स द्वारा भी डाटा लीक होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं। इन ऐप्स समेत कुल 275 ऐप्स फिलहाल रडार पर हैं, जिन्हें किसी भी समय बैन किया जा सकता है।