CM Vasundhara Raje

राजस्थान कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कि भाजपा कार्यकर्ता की दुकान पर शिरकत

329
Omprakash Varma

ओमप्रकाश वर्मा

धौलपुर। राजस्थान कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मंगलवार को लौटते समय सराय गजरा रोड एस बी फुट वियर स्थित एक जूतों की थोक दुकान पर रुककर भाजपा कार्यकर्ता से करीब बीस मिनट बात की।

वहीं 22 दिसंबर को मरैना गांव में आयोजित धौलपुर चम्बल लिफ्ट परियोजना के शिलान्यास के अवसर पर सागरपाड़ा स्थित आम्बेडकर पार्क के लिए निशुल्क आठ बीघा भूमि (जमीन) देने की घोषणा की। माना जा रहा है कि राज्य विधानसभा के चुनाव में एक साल का समय शेष है और धौलपुर विधानसभा क्षेत्र में जाटवों की संख्या काफी अधिक है। कांग्रेस से चुनाव लड़ने वाले पूर्व मंत्री बनवारीलाल शर्मा ने आज तक किसी जाटव की दुकान पर रुककर शिरकत नहीं की।

CM Vasundhara Raje

File Photo: CM Vasundhara Raje

इससे मुख्यमंत्री ने जाटवों को यह संदेश देने का प्रयास किया है कि वे अनुसूचित जाति के प्रति उतनी ही संवेदनशील हैं, जितनी कि अन्य जातियों के प्रति। यह बात अलग है कि उन्होंने अपने 4 साल के शासनकाल में भले ही जाटवों के हितों की रक्षा नहीं की हो पर अब चुनाव निकट हैं, इसलिए अनुसूचित जाति के वोटों को रिझाने की जरूरत पड़ी है।

यह तो मतगणना के बाद ही पता चलेगा कि आम्बेडकर पार्क के लिए दी गई 8 बीघा निशुल्क भूमि और जाटव कार्यकर्ता की दुकान पर की गई शिरकत का कितना असर पड़ा है। धौलपुर विधानसभा क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी भी अपना उम्मीदवार खड़ा करेगी। शायद इसलिए भी मुख्यमंत्री ने जूतों की दुकान पर बिना किसी कार्यक्रम के रुककर यह पहल की हो।

बता दें कि वे सराय गजरा रोड स्थित सहेली बाजार नामक संस्था की दुकान का जायजा लेने आईं थीं।इस संस्था के जरिए उन्होंने मतदाता महिलाओं को रिझाने का प्रयास किया है। वैसे भी धौलपुर विधानसभा क्षेत्र मुख्यमंत्री का गृह क्षेत्र है, यदि यहां से भाजपा उम्मीदवार को शिरकत मिलती है तो,उनकी छवि पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। राज्य में भी भाजपा की स्थिति संतोषजनक नहीं है।

सर्वे एजेंसियों व पीएमओ कार्यालय में पहुंचे पत्रों ने राजस्थान के भ्रष्टाचार मुक्त सुशासन पर भी प्रसन्ना चिन्ह लगा दिया है पर कांग्रेस इसे कितना भुना पाती है, वक्त ही बताएगा। धौलपुर व राजाखेड़ा के उच्च पदस्थ कांग्रेसी नेता तो विरोध करने की स्थिति में नहीं है, क्यों वे स्वयं इसमें लिप्त हैं। अप्रत्यक्ष रूप से सत्तारूढ़ सरकार के गुणगान कर बचे हुए हैं।

मुख्यमंत्री ने धौलपुर शहर में सहेली सर्वांगीण महिला विकास सहकारी समिति लि. द्वारा संचालित सहेली बाजार का अवलोकन…

इस क्षेत्र में महिला स्वयं सहायता समूहों ने सहकारिता से जुड़कर रोजगार संवर्धन और महिला सशक्तिकरण की दिशा में उल्लेखनीय कार्य किया है। इस सफलता को देखते हुए हम अब राज्य के दूसरे जिलों में भी इस मॉडल को लागू करने की दिशा में प्रयासरत हैं।

CM Vasundhara Raje

File Photo: CM Vasundhara Raje

यहां मैंने बाजार में प्रदर्शित उत्पाद, उनकी कीमत, बिक्री, विपणन रणनीति, परिवर्तन आदि के बारे में जानकारी ली। कड़ी प्रतिस्पर्धा के इस दौर में वाजिब दामों पर उच्च गुणवत्ता के उत्पाद बेचने तथा ग्रामीण महिलाओं को रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध करवाने में समिति का कार्य प्रशंसनीय है।

इस दौरान पदाधिकारियों को बनास डेयरी, पालनपुर और हिंगोनिया गौशाला, जयपुर का दौरा करवाने के निर्देश दिए जिससे वहां के मॉडल का अध्ययन कर उन्हें स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप लागू कर सकें। वहीं कलेक्टर को सहकारिता से जुडी महिला किसानों को खेती व उद्यम के लिए ऋण दिलवाने की प्रक्रिया की व्यक्तिगत निगरानी करने के निर्देश दिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को हमारी योजनाओं का लाभ मिल सके।

इसके अलावा धौलपुर में चमड़ा फुटवीयर उद्योग को विकसित करने की संभावनाओं पर दुकानदारों, कारखाना मालिकों तथा कामगारों से भी विस्तृत चर्चा की और अधिकारियों को चमड़ा उत्पादों को सहेली बाजार जैसा विपणन मंच उपलब्ध करवाने की सम्भावनाएं तलाशने के निर्देश दिए।