BREAKING NEWS
Search
padmavati controvesrsy

पद्मावती विरोध: प्राचीर पर लटका मिला शव, प्राचीर पर लिखा है ‘हम पुतले जलाते नहीं हैं…लटकाते हैं’

456
Share this news...

जयपुर नाहरगढ़ की प्राचीर पर लटका मिला शव। चेतन नामक युवक की हत्या, कोयले से प्राचीर पर लिखी है भड़काउ लाइन….

Omprakash Varma

ओमप्रकाश वर्मा

जयपुर। देशभर में फैले फिल्म पद्मावती के विरोध के बीच आज सुबह जयपुर में एक युवक की हत्या कर नाहरगढ़ की प्राचीर पर शव लटका दिया। नाहरगढ़ किले की प्राचीर के कंगूरे पर युवक का शव फंदे से लटका मिला। शव के पास ही दीवारों पर फिल्म पद्मावती के विरोध में लिखा हुआ था कि ‘हम पुतले जलाते नहीं हैं…लटकाते हैं।’

फिल्म पद्मावती को लेकर राजस्थान समेत पूरे देश में विरोध प्रदर्शन को देखते हुए इस मामले में पुलिस काफी सतर्कता बरत रही है। पुलिस ने किसी को घटनास्थल पर जाने से रोक लगा दी है। मौके पर भारी पुलिस जाप्ता तैनात कर दिया गया है।

जयपुर पुलिस को सुबह सात बजे नाहरगढ़ किले पर युवक के लटके होने की सूचना मिली। जिसके बाद ब्रह्मपुरी थाना पुलिस मौके पर पहुंची। डॉग स्कवॉड और एफएसएल टीम भी वहां पहुंची। युवक की पहचान चेतन तांत्रिक के रूप में हुई है। युवक की पहचान होने के बाद सुसाइड, हत्या या दूसरे कारणों की पुष्टि पुलिस ने करने से इनकार कर दिया।

प्रथमदृष्टया यह हत्या का मामला सामने आ रहा है, लेकिन दो समुदायों के बीच अराजकता फैलाने का प्रयास माना जा रहा है। हालांकि, पुलिस यह पड़ताल करने में लगी है कि दीवार पर लिखे स्लोगन से युवक का ताल्लुक तो नहीं है। पुलिस यह भी जांच—पड़ताल करने में जुटे हैं कि कहीं पद्मावती फिल्म के विरोध में तो युवक ने जान नहीं दी है। पुलिस को युवक की हत्या करके उसे लटकाने का भी अंदेशा है।

शव गहरी खाई की तरफ लटका हुआ था। जिसके चलते पुलिस को शव उतारने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। कपड़े के फंदे के टूटने से शव खाई में गिरने की संभावना के चलते काफी समय में शव का उतारा गया। पुलिस ने शव उतारने के लिए सिविल डिफेंस कर्मियों की सहायता ली। सिविल डिफेंसकर्मी रस्सी के सहारे उतरकर शव को ऊपर लाए। इस तरह से पहाड़ी पर बनी प्राचीर पर शव मिलने की सूचना के बाद मौके पर बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए। पुलिस लोगों को हटाने में लगी है। पर्यटक भी फंदे पर युवक को देखकर सहम गए।

जिस तरह के स्लोगन लिखे हुए हैं, उससे साफ नजर आ रहा है कि फिल्म पद्मावती विरोध को दो समुदायों के बीच विवाद का कारण बनाने का प्रयास किया गया है। पुलिस इस प्रकरण को इस एंगल से देखकर भी गहनता से जांच करने में जुटी है। इस बीच सोशल मीडिया पर तरह—तरह की अफवाहें उड़ना शुरू हो गई है।

आमतौर पर लोगों की भावनाएं भड़काने जैसे कृत्य शुरू हो चुके हैं। पुलिस और इंटेलिजेंस ने इस प्रकरण में सावधानी बरतने के साथ लोगों से जांच तक शांत रहने की अपील की है। मौके पर पुलिस अधिकारियों ने मीडिया को भी कुछ स्पष्ट बताने से इनकार कर दिया।

पुलिस के अनुसार मृतक के हाथों पर कोयले के निशान मिल हैं। दूसरी तरफ मृतक चेतन दिमागी रूप से सनकी बताया जा रहा है। आत्महत्या को लेकर हत्या और दो समुदायों के बीच वैमनश्य फैलाने के लिए यह स्लोगन लिखा है।

Share this news...