BREAKING NEWS
Search
Head constable raghunath

तमाशबीन बने लोग, डूंगरी के हैड कांस्टेबल ने महिला की जान बचाने के लिए लगा दी टांके में छलांग, मौत

246

हैड कांस्टेबल आए तब तक काफी संख्या में लोग आ गए थें लेकिन अंदर कूदने की हिम्मत किसी की नहीं हुई…

पत्रकार रमेशपुरी गोस्वामी,

राजस्थान/जालोर। परिंदों को नही दी जाती तालीम उड़ानों की, वो खुद ही तय करते है मंजिल आसमनों की! रखता है जो हौसला आसमान छूने का! उसको नहीं होती परवाह गिर जाने की!

ये पंक्तियां सटीक बैठती है डूंगरी चौकी प्रभारी हैड कांस्टेबल रघुनाथाराम बिश्नोई पर। जिन्होंने हिम्मत कर टांके में गिरी एक महिला की जान बचाने के लिए बिना कोई परवाह किए टांके मे छंलाग लगा दी। उनका मकसद सिर्फ एक था महिला को बचाना। लेकिन हैड कांस्टेबल ने महिला को तुरंत जिन्दा बाहर निकाल दिया लेकिन पानी ज्यादा पी जाने से महिला ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।

जानकारी के अनुसार मंगलवार दोपहर डुंगरी के राजकीय प्राथमिक विद्यालय परिसर में बने पानी के टांके मे सती पुत्री केसाराम जाती जोगी पानी भर रही थी। लेकिन अचानक महिला के पैर फिसलने से गहरे टांके में जा गिरी।

वहीं टांके में गिर जाने के बाद एक अन्य महिला साथ में थी उसने जोर से अवाज लगाई तो दौड़कर रघुनाथाराम बिश्नोई पहुंचे जहां। उन्होंने बिना परवाह किए टांके मे कुदकर एक बार महिला को बाहर निकाल दिया। जिसके बाद उनको डुंगरी के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ले जाया गया वहां ईलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया।

हैड कांस्टेबल आए तब तक काफी संख्या में लोग आ गए थें लेकिन अंदर कूदने की हिम्मत किसी की नहीं हुई।

महिला सती के टांके मे कुद जाने के तुरंत बाद साथी अन्य महिला चिल्लाई तो आस-पास के लोग बड़ी संख्या में आ गए थें। लेकिन किसी की अंदर कूदकर महिला को बचाने की हिम्मत नहीं हुई।

मौके पर लोग तमाशबीन बने हुए थें। जैसे ही महिलाओं के चिल्लाने की आवाज थोड़ी दूर पुलिस चौकी पर बैठे रघुनाथाराम को सुनाई दी। तो तुरंत दोड़कर मौके पर पहुंचे। और डूबते हुए की जान जाते नहीं देख सके। बेशक इसमें जान का जोखिम भी था लेकिन अपनी जान पर बिना परवाह किये टांके मे कुदकर महिला को बाहर निकाल लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करें।