BREAKING NEWS
Search
Udaya shivanand hospital caught fire

राजकोट के उदय शिवानंद अस्पताल के ICU वार्ड में देर रात आग लगी, 5 मरीजों की मौत

214
Share this news...

New Delhi: गुजरात के राजकोट जिले के एक कोविड अस्पताल में गुरुवार देर रात आग लग गई। हादसे में पांच कोरोना मरीजों की जलकर मौत हो गई, जबकि एक मरीज की हालत गंभीर है। मशीनरी में शॉर्ट सर्किट को आग लगने की वजह माना जा रहा है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने हादसे की जांच के आदेश दिए हैं।

बचाव दल ने अस्पताल में राहत अभियान चलाया।
बचाव दल ने अस्पताल में राहत अभियान चलाया।

शहर के आनंद बंगला चौराहे के पास उदय शिवानंद कोविड अस्पताल के आईसीयू वार्ड में गुरुवार रात एक से दो बजे के बीच आग लगी। हॉस्पिटल में 33 कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा था। बचाए गए मरीजों को दूसरे कोविड अस्पताल में शिफ्ट किया गया है।

मरने वालों के नाम रामसिंहभाई, नितिनभाई बदानी, रसिकलाल अग्रावत, संजय राठौर और केशुभाई अकबरी थे। उदय शिवानंद अस्पताल को सितंबर में ही कोविड सेंटर के रूप में मंजूरी दी गई थी। गुजरात के किसी अस्पताल में अगस्त से अब तक आगजनी की यह चौथी घटना है। बताया जा रहा है कि मृतकों में से कुछ ने हॉस्पिटल में एक-एक लाख रुपए डिपॉजिट भी कराए थे।

प्रधानमंत्री ने शोक जताया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, ‘राजकोट के अस्पताल में आग से जान गंवाने वालों लिए दुखी हूं। उनके परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। घायलों के जल्दी ठीक होने की ईश्वर से कामना करता हूं। प्रशा प्रभावितों तक जल्द मदद पहुंचाने की’

सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस लिया
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कोरोना के मामले की सुनवाई के दौरान राजकोट की घटना पर खुद ही नोटिस लिया। कोर्ट ने कहा कि अब अहम समय है कि देश में कोरोना के मामलों को रोकने के लिए पॉलिसी, गाइडलाइंस और स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रॉसिजर्स को सख्ती से लागू किया जाए। महामारी से निपटने के लिए राज्यों को राजनीति से ऊपर उठकर कोशिशें करनी चाहिए।

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में भरोसा दिया कि केंद्रीय गृह सचिव मीटिंग लेकर देशभर के सरकारी अस्पतालों में फायर सेफ्टी को लेकर निर्देश जारी करेंगे। साथ ही कहा कि कोरोना की मौजूदा लहर पहले के मुकाबले ज्यादा तेज लग रही है। 77% पॉजिटिव केस 10 राज्यों में हैं।

घटना के बाद फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंची और राहत-बचाव का काम शुरू किया। राजकोट के पुलिस कमिश्नर मनोज अग्रवाल भी घटनास्थल पर पहुंचे।

कमिश्नर मनोज अग्रवाल ने दिव्य भास्कर को बताया कि मुख्यमंत्री विजय रूपाणी लगातार हमारे संपर्क में हैं। हादसे के लिए जो भी जिम्मेदार होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी।

आग लगने के बाद मची भगदड़

हॉस्पिटल के नर्सिंग स्टाफ ने बताया कि दूसरी मंजिल पर बने आईसीयू वार्ड में अचानक धुंए का गुबार उठने लगा। डॉक्टरों समेत सभी मेडिकल कर्मियों में भगदड़ मच गई। खिड़कियों के शीशे तोड़कर मरीजों को बचाया गया।

6 अगस्त को अहमदाबाद के अस्पताल में हुई थी 8 मरीजों की मौत
इससे पहले 6 अगस्त को अहमदाबाद के नवरंगपुरा इलाके के श्रेय अस्पताल की चौथी मंजिल पर आग लगी थी, जिसमें आठ लोगों की मौत हो गई थी। मरने वालों में में पांच पुरुष और तीन महिलाएं थीं।

25 अगस्त को जामनगर के अस्पताल में लगी थी आग
जामनगर के जीजी अस्पताल में 25 अगस्त को शॉर्ट सर्किट की वजह से आईसीयू में आग लगी थी। यहां नौ मरीजों का इलाज चल रहा था। चार दमकलकर्मियों ने मौके पर पहुंचकर आग बुझाई थी। मरीजों को खिड़की से बाहर निकाला गया था। सितंबर में वडोदरा के सयाजी अस्पताल के आईसीयू-2 वार्ड में आग लगी थी। धुएं से मरीजों में दहशत फैल गई थी।

Share this news...