opium farming

पहाड़ों की तलहटी में हो रही अफीम की खेती

203

—- सुदूरवर्ती क्षेत्र में अफीम खेती बना ग्रामीणों के रोजगार का मुख्य साधन

— पुलिस ने किया अफीम की खेती को नष्ट

— 16 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज, पुलिस कर रही छानबीन

Saurav Kumar

सौरभ कुमार

रांची। झारखंड के सिमरिया सिमरिया थाना क्षेत्र में पहाड़ो की तलहटी में अफीम की खेती फल फूल रहा है। अफीम खेती की सूचना पर पुलिस ने जंगली क्षेत्र में आठ एकड़ में लगे अफीम की खेती को नष्ट कर दिया है।

यह अफीम की खेती चोरबोरा वन क्षेत्र में और निजी भूमि पर लगाई गई थी। खेती जंगल झाड़ी को उजाड़ कर लगाई गई थी। इसे नष्ट करने में ट्रैक्टरों का सहारा लिया गया। इस अभियान में एटीएस कीे टीम को भी लगाई गई थी।

अफीम खेती उन्मूलन के दौरान इंस्पेक्टर टी. बागे थाना प्रभारी के.के चौधरी एसआई नंदलाल यादव और रेंजर उमेश प्रसाद मौजूद थे। थाना प्रभारी ने बताया कि सूचना मिली थी कि चोरबोरा जंगल में बड़े पैमाने पर अफीम की खेती की गई है। सूचना के आलोक में त्वरित कार्रवाई की गई और एटीएस की सहायता से फसल को नष्ट किया गया।

फसल को नष्ट करने में पुलिस टीम को 2 दिन का समय लगा। इस बाबत 16 लोगों के विरुद्ध सिमरिया थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है। जिसमें रामजतन गंझू, दासो गंझू, कैला गंझू, गणेश गंझू, रामावतार गंझू, धनेश्वर गंझू, ढुमा गंझू, उमेश गंझू, नरेश गंझू, लखन गंझू, संजय गंझू, सूरज गंझू, सुरेंद्र गंझू, सुरेश गंझू, जगदीश गंझू और गणेश गंझू का नाम शामिल है। इसके अलावे तीन चार अन्य अज्ञात व्यक्तियों पर प्राथमिकी दर्ज की गई है।