BREAKING NEWS
Search
Murder

टीआरएस कॉलेज में दिनदहाड़े एक छात्र को गोली मारकर मौत के घाट उतारा

388
ईशू केशरवानी

ईशू केशरवानी

रीवा। विवादों को लेकर सदैव सुर्खियों में रहने वाला शिक्षा का मंदिर और संभाग के सबसे बड़े ठाकुर रणमत सिंह स्वशासी महाविद्यालय (TRS College ) में आज दोपहर लगभग 2 बजे के आसपास उस समय सनसनी फैल गई। जब वैभव ठाकुर नाम का युवक पुरानी रंजिश के चलते छात्र नितिन सिंह पर सरेआम गोली दाग दी। और मौके से फरार हो गया।

गोली लगते ही छात्र घायल हो गया। जिसे नितिन सिंह (मृतक) के साथी छात्र रीवा संजय गाँधी अस्पताल लेकर गये। तब तक छात्र नितिन सिंह की मौत हो चुकी थी।

वहीं घटना की सूचना मिलते ही पुलिस घटना स्थल पहुँची। तब तक हत्या के आरोपी वैभव ठाकुर व उसका साथी संग्राम सिंह मौका देख फरार हो गया। बाद में पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए एक आरोपी संग्राम सिंह को दबोच लिया है। जबकि हत्या का मुख्य आरोपी वैभव सिंह भागने में कामयाब रहा।

विश्वस्त सूत्रो के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक घटना की वजह एक छात्रा के साथ छेड़छाड़ को माना जा रहा है। छात्रा ने हत्या के आरोपी वैभव ठाकुर से मृतक छात्र द्वारा परेशान करने की शिकायत की थी। जिस पर हत्या का आरोपी वैभव ठाकुर अपने साथी संग्राम सिंह के साथ कालेज पहुँचा और मृतक नितिन सिंह के साथ पहले मारपीट करने लगे और अपने साथी को पिटता देख मृतक छात्र के साथ पढ़ने वाले छात्र हत्या के आरोपियो वैभव पर टूट पड़े।

इसी बीच हत्या के आरोपी वैभव ने अपनी जेब से पिस्टल निकालकर छात्र नितिन सिंह के शरीर मे गोली दागकर फरार हो गया। पुलिस घटना की तह तक जाने पूछताछ में जुटी हुई है।

वहीं घटना की पूरी सच्चाई पुलिस जांच के बाद ही सामने आ पाएँगी। पुलिस ने मृतक छात्र  की लाश का पोस्टमार्टम व पंचनामा की कार्यवाही की। अब इस घटित घटना के बाद से छात्रो में भय और डर व्याप्त है।

वहीं दूसरी ओर कालेज प्रबंधन की भी पोल खुल गई है। आपको बता दें की टीआरएस महाविद्यालय काफ़ी समय से राजनितिक गुंडागर्दी का अखाड़ा बना हुआ है।

शिक्षा के मंदिर में इस प्रकार की खूनी घटना पूरे शिक्षा जगत के लिए एक शर्मनाक व अशुभ संकेत है। सत्ता, शासन-प्रशासन को चाहिए की कालेज परिसर में एक पुलिस चौकी का निर्माण कराएँ व छात्रों को चेकिंग करके ही अंदर प्रवेश दें। जिससे ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति दोबारा ना हो सके यहाँ पढ़ने वाले छात्र -छात्रा व पदस्थ शिक्षक अपने आपको सुरक्षित महसूस कर सके।