BREAKING NEWS
Search
sanjay singh jdu replied to shyam rajak jdu statement

श्याम रजक के दावे के बाद संजय सिंह बोले- राजद के तीन दर्जन विधायक जदयू के संपर्क में

230
Share this news...

Patna: नीतीश कुमार को 2024 में प्रधानमंत्री पद के लिए समर्थन देने की पेशकश के बाद राजद के दूसरे दांव के बाद बिहार की सियासत गर्म है। सत्तारुढ़ दल के नेता बौखला गए हैं। जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने दावा किया है कि खरमास के बाद बिहार की राजनीति बदल जाएगी। संजय सिंह ने साफ कहा कि श्याम रजक मुगालते में हैं। खुद राजद के तीन दर्जन विधायक जदयू के संपर्क में हैं और कभी भी राजद को छोड़कर जदयू में शामिल हो सकते हैं। असल में पार्टी के नेता श्याम रजक ने कह दिया है कि सत्ता पक्ष के 17 विधायक उनके संपर्क में हैं और वे सभी चाहते हैं कि उन्हें राजद अपना ले।

संजय ने कहा कि श्याम रजक को शायद पता नहीं है कि राजद के विधायक भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार में आस्था रखते हैं और उनके एक इशारे पर राजद छोड़ देंगे। खैर मनाइए कि अभी खरमास है। जैसे ही खरमास खत्म होगा, बिहार की राजनीति बदल जाएगी।

उधर, अरुणाचल प्रदेश में जदयू विधायकों के तोड़कर भाजपा के शामिल करा लेने के बाद जदयू की कड़ी नाराजगी सामने आ रही है। जदयू नेता भाजपा पर इशारों-इशारों में गठबंधन धर्म का पालन नहीं करने का आरोप तो लगा ही रहे हैं, साथ ही भाजपा को यह भी याद दिला रहे हैं कि 2005-10 वाली भाजपा से 2020 वाली भाजपा में बड़ा अंतर है। जदयू के पूर्व मंत्री और नेता जय कुमार सिंह ने खुलकर आरोप लगाया कि विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपना वोट जदयू में टर्न नहीं कराया, इसलिए जदयू के उम्मीदवारों की हार हुई। जय कुमार सिंह ने कहा कि इन सबके बावजूद हम आग्रह करेंगे कि भाजपा और जदयू इस मामले पर मिलजुल कर हल निकालें।

उधर, भाजपा कोटे से मंत्री रामसूरत राय ने कहा है कि NDA में टूट की बात अफवाह है। बिहार में लालू के लाल बेरोजगार पड़े हुए हैं। राजद को अपने विधायकों के टूटने का भय है। मंत्री ने कहा कि बिहार में हमारे नेतृत्वकर्ता नीतीश कुमार ही हैं। वहीं, श्याम रजक के बयान पर डिप्टी सीएम रेणु देवी ने कहा कि वे अपनी पार्टी को टूट से बचाने के लिए ऐसे बयान दे रहे हैं। हमारा मुखिया मजबूत है, टूट की बात गलत है। राजद अपने घर की चिंता करे, दूसरे के घर में ना झांके।

जदयू इन दिनों दोहरी लड़ाई लड़ रहा है। एक तरफ उसकी सहयोगी पार्टी भाजपा अरुणाचल प्रदेश के मामले में बयानबाजियों के तीर चला रही है तो दूसरी तरफ इस घटना फायदा राजद उठाना चाह रहा है। राजद ने पहले तो जदयू को ऑफर दिया कि नीतीश कुमार महागठबंधन के साथ आ जाएं और सरकार चलती रहे। वहीं, दूसरी तरफ जब जदयू ने इससे इंकार कर दिया तो, राजद के नेता श्याम रजक जदयू के 17 विधायक तोड़ने का दावा कर रहे हैं। ऐसे में जदयू अपने दावे पेश कर रहा है। अब , इंतजार खरमास के बीतने का करना होगा।

Share this news...