BREAKING NEWS
Search
satyendar jain delhi health minister

दिल्ली के स्वस्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन का बयान, सिर्फ 4-5 दिनों के लिए ही मौजूद है कोरोना का टीका

104
Share this news...

नयी दिल्ली. दिल्ली समेत देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण के विस्तार और खतरे के बीच टीकाकरण भी जारी है। इस बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन  का कहना है कि दिल्ली को  कोरोना का टीका बुधवार को मिला है। हमारे पास फिलहाल 4-5 दिन का ही टीका बचा है। हमने इस संबंध में और टीकों की मांग की है, हमें उम्मीद है कि जल्द ही इसकी पूर्ति हो जाएगी। उन्होंने लोगों से भी अपील की है कि हमें मिल कर कोरोना को हराना है। केंद्र सरकार की ओर से कहा जा रहा है कि स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण कम हुआ है। हम इस बारे में यही कह सकते हैं कि केंद्र सरकार के अस्पतालों में ही कम टीकाकरण हुआ है। यह कोई मुद्दा भी नहीं है। मुद्दा यह है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा टीका लगना चाहिए।

वहीं, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि राजधानी दिल्ली में 24 घंटे टीका लगना शुरू हो गया है। इससे टीकाकरण की रफ्तार भी बढ़ गई है। जनता को यह सुविधा देने वाली दिल्ली सरकार देश की पहली सरकार है। उन्होंने कहा कि राजधानी के लोगों की व्यस्त दिनचर्या को देखते हुए दिल्ली सरकार ने यह फैसला लिया है। इससे अब कोई भी व्यक्ति कभी भी टीकाकरण केंद्र पर जाकर टीका लगवा सकता है। वहीं, अगर कोई व्यक्ति रात्रि कफ्र्यू के बीच टीका लगवाने जाता है, तो उसे ई पास लेकर जाना होगा। स्वास्थ्य मंत्री ने लोकनायक अस्पताल में चल रहे टीकाकरण का वीडियो ट्वीट करते हुए दिल्ली के सभी पात्र लोगों से आगे आकर टीका लगवाने की अपील की है।

टीकाकरण अभियान के अंतर्गत बुधवार टीकाकरण की रफ्तार काफी सुस्त रही। इस वजह से शाम छह बजे तक मात्र 41,412 लोगों को ही टीका लगा। इसका एक कारण यह रहा कि बुधवार को नगर निगम की डिस्पेंसरी में रुटीन टीकाकरण का दिन था। इसलिए यहां केवल पांच साल से कम उम्र के बच्चों को अन्य बीमारियों से बचाव वाले टीके लगे। इसलिए यहां कोरोना टीका नहीं लगा। सिर्फ बड़े सरकारी व निजी अस्पतालों में ही सामान्य रूप से टीकाकरण हुआ। इसलिए टीकाकरण की रफ्तार धीमी रही, जबकि मंगलवार को शाम छह बजे तक 76,642 लोगों ने टीका लगवाया था। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार बुधवार को 33,867 लोगों ने टीके की पहली डोज व 7,545 लोगों ने टीके की दूसरी डोज ली। इनमें से सिर्फ तीन लोगों में ही हल्के दुष्प्रभाव देखे गए।

 

Share this news...