maharastra govt. formation

सरकार गठन के लिए शिवसेना एनडीए छोड़ने को तैयार, केंद्रीय मंत्री सावंत इस्तीफा देंगे; राउत बोले- भाजपा अहंकार में है

138

New Delhi: महाराष्ट्र में भाजपा के सरकार बनाने से इनकार के बाद शिवसेना ने राकांपा और कांग्रेस की मदद से सरकार बनाने की तैयारी कर ली है। लेकिन, राकांपा और कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन देने के लिए उसके एनडीए से अलग होने की शर्त रखी है। इसके बाद मोदी सरकार में शिवसेना के इकलौते केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत ने सोमवार सुबह ट्वीट कर इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया। शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि भाजपा विपक्ष में बैठने को तैयार हैं, लेकिन मुख्यमंत्री पद नहीं बांटेगी। ये उनका अहंकार है। उधर, कांग्रेस-राकांपा और भाजपा ने कोर कमेटी की बैठकें बुलाई हैं।

बदले हुए हालात में शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बन सकते हैं। जबकि, पहले वह अपने बेटे आदित्य ठाकरे को सीएम बनाना चाह रहे थे। उधर, इस नए गठजोड़ में उप-मुख्यमंत्री का पद राकांपा को जा सकता है। वहीं, कांग्रेस को विधानसभा में स्पीकर का पद दिया जा सकता है। राज्यपाल ने शिवसेना को संख्याबल बताने के लिए आज शाम 7:30 बजे तक का वक्त दिया है। ऐसे में उद्धव खुद सत्ता का समीकरण बनाने में पूरा जोर लगा रहे हैं।

‘उद्धव के आदेश पर अरविंद सावंत इस्तीफा दे रहे हैं’

संजय राउत ने कहा, ”भाजपा ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद बांटने के लिए तैयार नहीं है। वे किसी भी हालत में शिवसेना को मुख्यमंत्री पद नहीं देंगे। चाहे उन्हें विपक्ष में ही क्यों न बैठना पड़े। इस व्यवहार को जनता के साथ धोखा कहा जाएगा या नहीं। भाजपा मानने के लिए ही तैयार नहीं तो कौन सा रिश्ता रहता है हमारा। हमसे पूछा तक नहीं गया। यह रिश्ता औपचारिकता रह गया। हमारे केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत उद्धव ठाकरे के आदेश पर केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफ देने का फैसला लिया है।”

राउत ने कहा कि बेहतर होता कि राज्यपाल संख्याबल बताने के लिए हमें और वक्त देते। शिवसेना को भाजपा से कम समय दिया गया है। यह महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू करने की भाजपा की रणनीति है।
अपडेट्स
– राकांपा प्रमुख शरद पवार मुंबई में पार्टी की कोर कमेटी की बैठक लेंगे। इसमें प्रफुल पटेल, सुप्रिया सुले, अजीत पवार, जयंत पाटिल और अन्य नेता मौजूद रहेंगे। पवार ने कहा- जो भी फैसला होगा, राकांपा और कांग्रेस मिलकर लेंगे। अभी शाम तक का समय है।
– कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने महाराष्ट्र के राजनीतिक हालात पर चर्चा के लिए दिल्ली स्थित अपने आवास पर कार्यसमिति की बैठक बुलाई। इसमें अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल और मल्लिकार्जुन खड़गे समेत अन्य नेता शामिल हुए।इससे पहले खड़गे ने जयपुर में ठहरे महाराष्ट्र के विधायकों के साथ बैठक की।

– भाजपा ने दोपहर को विधायक दल के नेता देवेंद्र फडणवीस के आवास पर कोर कमेटी की बैठक बुलाई है।

– शिवसेना के बड़े नेताओं की रविवार देर रात तक मातोश्री में बैठक हुई। उद्धव ठाकरे ने सभी विधायकों को होटल रिट्रीट में रुकने के लिए कहा है। यहां बैठक में अंतिम निर्णय लिया जाएगा।
शिवसेना एनडीए गठबंधन से अलग होगी

शिवसेना के केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत ने ट्वीट किया- शिवसेना का पक्ष सच्चाई है। इतने झूठे माहौल में दिल्ली सरकार में क्यों रहे और इसीलिए मैं केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा दे रहा हूं। इस संबंध में सुबह 11 बजे दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा।

संभावित सरकार में कांग्रेस का शामिल होना तय नहीं 

  • कांग्रेस गठबंधन सरकार में शामिल होगी या नहीं, यह अभी स्पष्ट नहीं है। लेकिन, स्पीकर पद कांग्रेस के खाते में जा सकता है। पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण इसके लिए पहली पसंद होंगे। उप-मुख्यमंत्री का पद राकांपा को देने की बात हो चुकी है, लेकिन गृह मंत्रालय को लेकर खींचतान जारी है। 1999 में कांग्रेस और राकांपा ने ऐसे ही हालात में राज्य में सरकार का गठन किया था। इसके बाद दोनों दल 15 साल तक सत्ता में रहे थे।
  • कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने रविवार देर शाम जयपुर में कहा कि पार्टी राज्य की जनता पर राष्ट्रपति शासन थोपे जाने के पक्ष में नहीं है। उन्होंने कहा कि नव-निर्वाचित पार्टी विधायक हाईकमान से सलाह लेंगे और उसके आधार पर फैसला करेंगे।

शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस साथ आए तो बहुमत 

कुल सीटें: 288 

बहुमत: 145 

दल  सीटें
शिवसेना 56
एनसीपी 54
कांग्रेस 44
कुल  154
निर्दलीय 9 विधायक साथ होने का दावा
कुल संख्या बल  163

महाराष्ट्र में अन्य दलों की स्थिति 

पार्टी सीट
भाजपा 105
बहुजन विकास अघाड़ी 3
एआईएमआईएम 2
निर्दलीय और अन्य दल 15
कुल  125