BREAKING NEWS
Search
Jyoti Rao Sindhiya

भाजपा पर जमकर बरसे पूर्व मंत्री सिंधिया, मुख्यमंत्री झूठ की राजनीति करते है

649
Sarvesh Tyagi

सर्वेश त्यागी

शिवपुरी। उपचुनाव से पहले भाजपा और कांग्रेस में घमासान मचा हुआ है। आरोप-प्रत्यारोप से रोजाना राजनीति में गर्माहट बनी हुई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सभाओं के बाद अब सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया कोलारस पहुंचे और शिवराज सरकार पर जमकर बरसे।

वहीं दलितों के मुद्दे पर सरकार पर घेरा। शुक्रवार को कोलारस में जाटव सम्मेलन में शामिल हुए सिंधिया ने कहा कि कोलारस में सीएम, मंत्रियों से लेकर ऐसे-ऐसे चेहरे पर्यटक की तरह आ रहे हैं, जिनके चेहरे आपने व मैंने कभी यहां नहीं देखे। वहीं सिंधिया ने मुख्यमंत्री को झूठ की राजनीति करने का आरोप बीच लगाया।

उन्होंने कहा सीएम ने विधायक रामसिंह यादव को श्रद्धांजलि देने के बाद झूंठ बोलते हुए कहा कि इस क्षेत्र के विधायक किसी काम के लिए मेरे पास नहीं आए। इससे बड़ा छल क्या होगा कि जो इंशान दुनिया में नहीं रहा, उस पर इस तरह का आरोप सीएम लगाते हैं। यह हमारे दिवंगत विधायक का अपमान है, इसका बदला लेना है।

सिंधिया ने सीएम की घोषणाओं और किसान सम्मलेन को लेकर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री किसान सम्मेलन करते हैं तो किसानों को पीटा जाता है। आदिवासी सम्मेलन करते हैं तो आदिवासियों को खाना नहीं दिया जाता। सीएम शिवराज को खुली चुनौती देते हुए कहा कि आदिवासी समाज बिकाऊ नहीं है। एक हजार रुपए देने से क्या होता है और कितनों को दे दिया, उन्होंने कहा कि पैसों से नहीं, आदिवासियों का दिल जीतकर दिखाओ।

सिंधिया ने दलितों के मुद्दों पर भी सरकार को घेरा। सिंधिया ने कहा भाजपा के राज में आज कोलारस में ही नहीं, बल्कि पूरे मध्यप्रदेश में दलितों पर अन्याय व अत्याचार के बादल मंडरा रहे हैं। आरक्षण को समाप्त करने की बातें कही जा रही हैं, लेकिन बाबा भीमराव अंबेडकर ने अन्याय व अत्याचारों के विरुद्व लड़ाई-लड़ने की जो सीख सिखाई थी, उस सीख का जवाब कोलारस के उप चुनाव में वोट के माध्यम से देकर इस सरकार को उखाड़ फेंकेंगे।

सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस की सोच व विचारधारा हमेशा दलितों को आगे बढ़ाने की रही है, कांग्रेस ने जगजीवन राम को केंद्र में रक्षा मंत्री बनाया और उनकी पुत्री मीरा कुमार को लोकसभा अध्यक्ष के पद पर बैठाया। दलित नेता सुशील कुमार शिंदे को केंद्रीय गृह मंत्री बनाया और वर्तमान संसद में मल्लिका अर्जुन को विपक्ष के नेता बनाया।