BREAKING NEWS
Search
श्रेयस

श्रेयस पांडे नाम के युवक नें मारी थी संदीप को गोली, सट्टेबाजी के पैसे का लेनदेन हो सकता है हत्या का कारण

852

युवक की हत्या को लेकर पुलिस उलझी नजर आ रही है, मृतक सट्टेबाजी और जुए का अड्डा भी संचालित करता था…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: जैतपुरा थाना अंतर्गत राजापुरा औसान गंज के पास सोमवार की सुबह 10.30 बजे के आसपास संदीप यादव उर्फ सोनू (32 वर्ष) की श्रेयस पांडे व उसके दो अज्ञात साथियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस के मुताबिक संदीप के मोबाइल पर श्रेयस का पहले फोन आया फिर संदीप व उसका छोटा भाई सन्नी हॉकी स्टम्प से लैस होकर वहां पहुंचे और श्रेयस से बात करने लगे और विवाद होने पर हमला कर दिया जिस पर श्रेयस ने कमर में रखी पिस्टल निकालकर संदीप को गोली मार दी।

गोली लगते ही संदीप उल्टे पांव अपने घर की तरफ भागा और घर के पास गिरकर बेसुध हो गया। आनन-फानन में लहु-लहान संदीप को उसके भाई व अन्य परिजन लाद कर कबीर चौरा हॉस्पिटल ले गए। जहां उसकी मौत हो गई।

बताया जा रहा है कि संदीप यादव सट्टेबाजी व जुआ का संचालन करता था। उसी पैसे के लेनदेन को लेकर कुछ दबंगों से दुश्मनी चल रही थी। एक सप्ताह पूर्व क्षेत्र का हिस्ट्रीशीटर बाले यादव के भाई को संदीप व उसके भाई ने मारपीट कर घायल कर दिया था। बाले यादव पूर्व के एक मुकदमे में जमानत तुड़वा कर जेल गया था और 5 अप्रैल को जमानत पर छूट कर आया था। श्रेयस वहीं उठता बैठता और साथ रहता था। इस एंगेल से सोचने पर शक की सुई बाले यादव की ओर भी घूमती नजर आ रही है।

यह भी जानकारी मिली है कि श्रेयस के पिता नें 18 वर्ष पहले मालवीय पुल से कूदकर आत्महत्या कर ली थी, उनकी चप्पल व साइकिल मालवीय पुल पर मिली थी, श्रेयस अपने दादा-दादी के साथ रहता था और उसके दादा क्षेत्र के एक सम्मानित पुरोहित है, जो दारानगर मे रहते हैं।

शहर में हत्या की जानकारी मिलते ही एसपी सिटी समेत आस-पास के थाना प्रभारी मौके पर पहुंच गये। पुलिस का मानना है कि जिस प्रकार से युवक द्वारा घटना को अंजाम दिया गया है वह पहली नजर में पेशेवर अपराधी द्वारा हत्या की गई लगता है। यह श्रेयस की पहली घटना थी या अन्य मामलों में संलिप्तता है इसकी जानकारी आगे चलकर पता लगेगी।

फिलहाल पुलिस श्रेयस और उसके साथियों का सुराग तलाशने में लग गयी है, जिन जिनसे श्रेयस पांडे मिलता जुलता था पुलिस उनसे पुछताछ में लगी है। उसके तमाम परिजनों को तलब किया जा रहा है। साथ ही पुलिस श्रेयस और संदीप दोनो की कॉल डिटेल निकलवाकर हत्या की तह तक पहुँचने की कोशिश में लगी है।