BREAKING NEWS
Search
Student protest

नहीं मिलेगी शिक्षा शुल्क तो नहीं खिलेगा फूल 

336

सरकार की शिक्षा नीति पर भड़के कॉलेजी छात्र….

शिक्षा शुल्क में भेदभाव करने का लगाया आरोप…

Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी। निजी महाविद्यालयों मे पढ़ने वाले पिछड़ा वर्ग के छात्रों को मिलने वाली शिक्षा शुल्क व छात्रवृत्ति मे कटौती करने पर छात्रों का समूह सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने पर उतर आया है। छात्रों ने पढ़ाई छोंड़ लड़ाई की तैयारी कर लिये है। उनका कहना था कि सरकार की नीति के कारण उनका कैरियर चौपट होने की कगार पर खड़ा हो गया है। ऐसे में उनका चुप रहना अपने साथ हो रहे अन्याय को सहते रहना है।

ज्ञात हो कि राज्य सरकार ने महाविद्यालयीन शिक्षा नीति में छात्रों को दी जाने वाली भारी भरकम फीस में कटौती करके केवल 108 रूपये सालाना शिक्षा शुल्क देने का आदेश जारी कर दिया है। जिसके कारण निजी महाविद्यालय में पढ़ने वाले पिछड़ा वर्ग के छात्रों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।

मंगलवार को जिले के अशासकीय महाविद्यालयों में अध्ययनरत छात्र/छात्राओं ने पत्रकार वार्ता कर अपनी समस्याऐं बताई। छात्रों द्वारा बताया गया कि सीधी जिले में अध्ययनरत पिछड़ा वर्ग के छात्र जिनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि अर्थिक रूप से अत्यन्त विपन्न है। एसे छात्र जो शासन द्वारा छात्रवृति योजना से मिलने वाली शुल्क के आधार पर अपनी शिक्षा जारी रखे हुए थे। उनको इस शैक्षणिक सत्र में घोर संकट का सामना करना पड़ रहा है।

शासन द्वारा छात्रों की शुल्क प्रतिपूर्ति मांग 108 रू. की जा रही है। अत: महाविद्यालय प्रबंधन छात्रों से शुल्क मॉंग रहा है। गरीब छात्र जिनके परिवार में दो जून भोजन की समस्या है वे 10,000 से 25,000 फीस कहां दे पायेंगें। अत: कहा जा सकता है कि पिछड़ा वर्ग के छात्रों के भविष्य को पूरी तरह से अंधकार में धकेल दिया गया है।

छात्रों ने वार्ता के दौरान कहा कि पिछड़ा वर्ग के छात्रों के सामने जो भविष्य का संकट है। उसका समाधान करना शासन की जिम्मेदारी है। हमने शासन द्वारा फीस प्रतिपूर्ति करने के आश्वासन पर प्रवेश लिया है अत: हम अपने इस मॉग को आंदोलन का रूप देंगें।

दिनांक 28/02/2018 को हम अपनी मॉंग लेकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपेंगें और इस माध्यम से प्रदेश के मुखिया हमारे मुख्यमंत्री जो की खुद पिछड़ा वर्ग से आते हैं उनसे अपील है कि फीस प्रतिपूर्ति कर हमारे भविष्य को सुरक्षित करे। इस दौरान सीधी जिले में संचालित समस्त अशासकीय महाविद्यालय के समस्त छात्रसंघ पदाधिकारी उपस्थित रहे।