BREAKING NEWS
Search
signal aap

सिग्नल ऐप यूजर्स को लुभाने के लिए कर रहा वॉट्सऐप के फीचर्स कॉपी, जानिए खास क्या है

130
Share this news...

नई दिल्ली। वॉट्सऐप की नई पॉलिसी मुद्दे के बाद से सिग्नल ऐप के डाउनलोड्स में तेजी आई है। ऐप अब अपने फीचर्स को लेकर सुर्खियों में हैं। सिग्नल ऐप अब अधिक यूजर्स को लुभाने के लिए वॉट्सऐप से मिलते जुलते फीचर अपने प्लेटफॉर्म पर ला रहा है।

वॉट्सऐप-सिग्नल में क्या एक जैसा

  • वॉट्सऐप को ट्रैक करने वाली वेबसाइट WABetaInfo ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि इस सप्ताह रोलआउट हुए लेटेस्ट सिग्नल बीटा अपडेट में चैट वॉलपेपर बदलने का फीचर जोड़ा गया है, जो वॉट्सऐप में भी देखने को मिलता है। वॉट्सऐप कस्टम ‘About’ सेट करने की सुविधा देता है, ठीक वैसा ही ऑप्शन सिग्नल ऐप पर भी मिलेगा। सिग्नल ऐप पर पहले से ही ग्रुप कॉल का फीचर है। पहले इसकी लिमिट पांच यूजर्स तक सीमित थी लेकिन ऐप ने लिमिट वॉट्सऐप की तरह 8 यूजर्स तक बढ़ा दिया है।
  • वॉट्सऐप ने पिछले साल ऐप में एनिमेटेड स्टिकर का सपोर्ट दिया था। अब, सिग्नल अपने डेस्कटॉप ऐप पर एनिमेटेड स्टिकर बनाने की सुविधा दे रहा है। लेटेस्ट अपडेट एनिमेटेड स्टिकर का सपोर्ट देता है, जिसमें ‘डे बाय डे’ पहला ऑफिशियल एनिमेटेड स्टिकर पैक है। इसके अलावा, सिग्नल ऐप वॉट्सऐप में मिलने वाले लो डेटा मोड फोर कॉल का फीचर अपने प्लेटफॉर्म पर दे रहा है। सिग्नल ने शेयरेबल ग्रुप इनवाइट लिंक का फीचर भी ऐप में जोड़ा है ताकि अन्य यूजर्स को ग्रुप में शामिल होने के लिए इनवाइट भेजा जा सके।

वॉट्सऐप की पॉलिसी का फायदा सिग्नल ऐप को मिला

वॉट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी की वजह से सिग्नल ऐप सुर्खियों में आया। वॉट्सऐप के विकल्प के तौर पर सैंकड़ों यूजर्स सिग्नल ऐप को डाउनलोड किया। प्ले स्टोर पर दी गई जानकारी के मुताबिक, अब तक इसे 5 करोड़ से ज्यादा यूजर्स डाउनलोड कर चुके हैं। सिग्नल और टेलीग्राम दोनों ही एपल और गूगल ऐप स्टोर पर टॉप पर हैं।

ट्रैफिक बढ़ने की वजह से डाउन हो गया है सिग्नल

पिछले हफ्ते सिग्नल ऐप दुनियाभर में डाउन हो गया था। जिसकी वजह से यूजर्स के बीच कम्युनिकेशन रुक गया। ये परेशानी ऐप के साथ डेस्कटॉप दोनों पर आ रही थी। जिसके बाद कंपनी ने कहा था कि ऐप पर भारी ट्रैफिक की वजह से ये डाउन हुआ है।

अब 15 मई से लागू होगी वॉट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी
हाल ही में वॉट्सऐप ने नई प्राइवेसी पॉलिसी जारी की थी। यह पॉलिसी 8 फरवरी से लागू होनी थी। वॉट्सऐप के मुताबिक, 8 फरवरी से इस मैसेजिंग ऐप का इस्तेमाल करने के लिए प्राइवेसी पॉलिसी का स्वीकार करना जरूरी था। हालांकि, इस पॉलिसी को लेकर विवाद शुरू हो गया था। विवाद ज्यादा बढ़ने पर वॉट्सऐप ने इस पॉलिसी को लागू करने की डेडलाइन को बढ़ाकर 15 मई कर दिया है। वॉट्सऐप का कहना है कि जो यूजर नई पॉलिसी को स्वीकार नहीं करेंगे, वह उसके प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे।

ब्रायन एक्टन ने पहले वॉट्सएप बनाया, फिर सिग्नल को खड़ा किया

49 साल के ब्रायन एक्टन, फेसबुक संस्थापक मार्क जुकरबर्ग के लिए किसी डरावने सपने से कम नहीं हैं। बात 2009 की है, जब फेसबुक में इंटरव्यू के लिए गए एक्टन को कंपनी ने नहीं चुना था। लेकिन महज 5 साल बाद ही फेसबुक ने एक्टन और जॉन कूम के बनाए वॉट्सएप को 1.3 लाख करोड़ रुपए (19 बिलियन डॉलर) में खरीद लिया। कभी फेसबुक में बतौर कर्मचारी रिजेक्ट हुए एक्टन इस डील से 27 हजार करोड़ रुपए (3.8 बिलियन डॉलर) संपत्ति के मालिक बन गए। इसके बाद उन्होंने फरवरी 2018 में सिग्नल फाउंडेशन शुरू किया। इसके लिए उन्होने 50 मिलियन डॉलर (करीब 365 करोड़ रुपए) खर्च किए। जून 2020 तक, सिग्नल के कुल 32.4 मिलियन से अधिक डाउनलोड थे। 2020 तक ऐप के लगभग 20 मिलियन मंथली एक्टिव यूजर्स थे।

Share this news...