Murder

बेखौफ अपराधियों ने दो दवा व्यवसायियों पर किया जानलेवा हमला, नए एसपी विकास वर्मन के लिए चुनौती

484

नए एसपी साहब के आने 5 घंटे बाद ही शहर के दो दवा व्यवसायियों पर जानलेवा हमला….

जिले का सबसे चर्चित हत्या दंपति हत्या कांड में अबतक मुख्य आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं….

भरत चौबे की रिपोर्ट,

सीतामढ़ी। जिले में निवर्तमान एसपी हरी प्रसाथ एस ने नए एसपी विकास वर्मन के लिए सीतामढ़ी जिला कई बड़े-बड़े काण्डों को इनके माथे थोप गये है.

आपको बता दें की जिले का सबसे चर्चित हत्या दंपति हत्या कांड में अबतक मुख्य आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई है. वहीं वाहन कारोबारी धर्मेंद्र हत्या कांड का तो खुलासा भी नहीं हुआ है. ऐसे दो-तीन और बड़े कांड है जिसमें पुलिस की हाथ अब भी खाली है. उक्त सभी कांड को सुलझाय बिना एसपी हरी प्रसाथ ने नए एसपी विकास वर्मन के सिर पर छोड़ गए.

वहीं इनके आने से एक दिन पूर्व से ही जिले में गोलियों की बौझार होने लगी है. वहीं नए एसपी साहब के आने 5 घंटे बाद ही शहर के दो दवा व्यवसायियों पर जानलेवा हमला किया गया. जिस तरह से उक्त दोनों दवा व्यवसायियों पर गोली चलाई गयी है. ठीक उसी तरह पूर्व में भी जिले के कई व्यवसायियों गोली चलाई गयी थी, वर्ष 2013 में जिले के शंकर चौक पर विष्णु किराना स्टोर के संचालक पर इसी तरह गोली फायरिंग की गयी थी, जिसमें संचालक को पाखुर में गोली लगी थी.

वहीं पायल ड्रेसेज के संचालक पर भी इसी तरह हमला किया गया था. जिसमें कुख्यात अपराधी सरोज राय का नाम सामने आया था. वहीं वर्ष 2014 में जिले सबसे पुराना दवा व्यवसायी यतीन्द्र खेतान की हत्या किया गया था. जिसमें सरोज राय का नाम सामने आया था. उक्त घटना को लेकर काफी गहमा-गहमी हुई थी, इतना ही नहीं उस वक्त निवर्तमान एसपी नवल किशोर सिंह का तबादला किया गया था. हरी प्रसाथ एस की न्युक्ति की गयी. जिनके नेतृत्व में सरोज राय के कुछ गुर्गे को पकड़ा गया, जिसमें पुलिस ने यह खुलासा किया था की उक्त सभी कांडो का अंजाम रंगदारी के रकम को लेकर की गयी थी.

जिसके बाद पुलिस का एक ही मकसद था, सरोज राय जी गिरफ्तारी. पुलिस के काफी प्रयास के बाद दिल्ली पुलिस के सहयोग से सरोज राय की गिरफ्तारी की गयी थी. जिसके बाद साक्ष्य के आभाव में न्यायलय ने भी सरोज राय को बेल पर छोड़ दिया. फ़िलहाल लोगों व व्यवसायियों में भय और आक्रोश साफ देखा जा रहा है।