mp minister

MP सरकार के आदशों पर जमीन का तत्काल आवंटित तो हुआ, मगर यूनिवर्सिटी का भवन अभी तक है अधूरा

146
Rajkumar jayaswal

राज कुमार जायसवाल

भोपाल। विश्व को शांति का संदेश देने एवं शांति पर शोध करने के लिए स्थापित की गई सांची बौद्ध यूनिवर्सिटी से प्रदेश सरकार के वन मंत्री गौरीशंकर शेजवार के परिवार को 7 लाख रुपए महीने मिल रहे हैं। इस यूनिवर्सिटी की आधारशिला 6 साल पहले श्रीलंका के राष्ट्रपति महेन्द्रा राजपक्षे ने रखी थी। उसी समय प्रदेश सरकार ने सांची के पास 100 एकड़ जमीन को यूनिवर्सिटी के लिए आवंटित कर दिया था।

साथ ही फंड भी जारी किया गया था। तब से लेकर अब तक MP सरकार सांची यूनिवर्सिटी के भवन निर्माण के लिए एक र्इंट भी नहीं रख पाई है। ऐसे में यूनिवर्सिटी मंत्री शेजवार के परिजनों से भवन किराए पर लेकर चल रही है। जिसकी वजह से न तो विदेशी अध्ययन केंद्र स्थापित हो पाया है और न ही विदेशी छात्र पढ़ाई के लिए सांची आए।

सांची विश्वविद्यालय के जरिए बौद्ध धर्म के अनुयायी एशिया महाद्वीप के देशों को भारत से जोड़ना है। भगवान बौद्ध की नगरी सांची में विश्व शांति पर शोध के लिए भारत और श्रीलंका ने मिलकर सांची विश्वविद्यालय स्थापित किया है। इसमें अन्य देश जापान, चीन, थाईलैंड, मलेशिया, वर्मा, भूटान आदि बौद्ध देशों का भी सहयोग मिलना था। 21 सितंबर 2012 को जब सांची में यूनिवर्सिटी की आधारशिला रखी गई थी, तब भूटान के प्रधानमंत्री एवं दुनिया भर के 60 देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए थे।

उस समय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सांची यूनिवर्सिटी के लिए 100 एकड़ जमीन आवंटित करने एवं 100 करोड़ रुपए की राशि देने का ऐलान किया था। जमीन को तत्काल आवंटित हो गई, लेकिन यूनिवर्सिटी का भवन अभी तक नहीं बना है। यूनिवर्सिटी के पास खुद का भवन नहीं होने से MP सरकार के मंत्री गौरीशंकर शेजवार के ग्राम बारला स्थित फार्म हाउस पर बने भवन में इसका संचालन हो रहा है। इसके एवज में मंत्री शेजवार के बेटे को 7 लाख का किराया मिलना है। यहां न तो छात्रों के लिए हॉस्टल है और न ही विशेष अध्ययन केंद्र है। संस्कृति विभाग के अधीन आने वाली इस यूनिवर्सिटी के लिए भवन निर्माण एवं अन्य कार्ययोजना को लेकर मप्र सरकार के मंत्री सुरेन्द्र पटवा के पास ज्यादा जानकारी नहीं है।

अभी तक एक भी विदेश अध्यक्ष केंद्र नहीं खुला 

जब यूनिवर्सिटी की आधारशिला रखी गई थी, तब जापान, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, वर्मा, मलेशिया, थाईलेंड, चीन आदि ने अपने-अपने अध्ययन केंद्र खोलने की इच्छा जताई थी। उस समय इनमें से कुछ देशों ने यूनिवर्सिटी निर्माण में सहयोग राशि भी दी थी। जापान कल्चर विभाग की मिस जेंसा अयामी ईटो ने 9 लाख येन का चेक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को दिया था। श्रीलंका ने भी राशि दी थी।

संघ का ड्रीम प्रोजेक्ट है यह यूनिवर्सिटी

दरअसल, सांची बौद्ध विवि की स्थापना के पीछे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के तत्कालीन संवाद प्रमुख एवं वर्तमान में भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री राममाधव की अहम भूमिका है। 2012 में भोपाल में पहला धर्म-धम्म सम्मेलन राममाधव के निर्दशन में ही हुआ था। हालांकि इसका आयोजन MP सरकार के संस्कृति विभाग की ओर से किया गया था। वर्तमान में सांची विवि में ज्यादातर स्टाफ संघ विचारधारा से जुड़ा है।