khatgaaon court

रुपयों का गबन व त्रुटिपूर्ण अभिलेख बनाने वाले आरोपी सुरेश गुप्ता को 6 वर्ष का सश्रम कारावास

78
Anil Upadhyay

अनिल उपाध्याय

देवास। सोमवार को अपर जिला एवं सत्र न्यायालय खातेगांव के सत्र प्रकरण क्रमांक 329/2013 राज्य शासन द्वारा पुलिस थाना खातेगांव विरूद्ध सुरेश गुप्ता के प्रकरण में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश माननीय मनोज तिवारी ने आरोपी सुरेश पिता सीताराम गुप्ता उम्र- 60 वर्ष निवासी 91 मानवता नगर इन्दौर को भारतीय दण्ड विधान की धारा 409, 420 में दोषी पाते हुए 6 वर्ष का सश्रम कारावास की सजा एवं 20,000/- रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किया गया।

अपर लोक अभियोजक गिरधर गोपाल तिवारी ने बताया कि प्रकाश कुमार माखीजा द्वारा दिनांक 11.05.2013 को आरक्षी केन्द्र खातेगांव जिला देवास के द्वारा लिखित आवेदन पत्र प्रस्तुत किया कि, वह क्षेत्रिय प्रबंधक म.प्र. राज्य बीज एवं फर्म विकास निगम उज्जैन मे पदस्थ है। यह निगम म.प्र. शासन कर उपक्रम होकर उसका मुख्यालय बीज भवन 36 मदर टेरेसा मार्ग, अरेरा हिल्स भोपाल पर स्थित हैं, तथा इस निगम के क्षेत्रिय कार्यालय उज्जैन के अंतर्गत उसका प्रक्रिया केन्द्र खातेगांव में हैं।

जिसमें 16.08.2002 से 18.01.2015 के दौरान आरोपी सुरेश गुप्ता प्रक्रिया प्रभारी के पद पर तैनात रहे थे। निगम के प्रबंधक संचालक को यह तथ्य जानकारी में आया कि, खातेगांव प्रक्रिया केन्द्र में पदस्थ आरोपी सुरेश गुप्ता द्वारा बिजो के लेन देन उपार्जन एवं कृषकों को अग्रिम भुगतान बीजो की गुणवत्ता एवं गंभीर वित्तीय अनियमितताएं की शिकायतें आ रही है इसलिए निगम मुख्यालय के अधिकारियों का एक अंकेक्षण दल गठित कर आदेश के माध्यम से निर्देश जारी किये गये कि आरोपी सुरेश गुप्ता के कार्यकाल की अवधि का विस्तृत अंकेक्षण कर स्पष्ट प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जाये।

उसके पश्चात प्रबंध संचालक के निर्देश अनुसार अंकेक्षण दल जिसमें अशोक कुमार, मिलिंद संगीने एवं आर.के. विश्वमित्र सदस्य थे, आदि ने अंकेक्षण कर प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। उक्त प्रतिवेदन में 50,58,599/- रूपये की गड़बड़ी, हेरा फरी एवं गंभीर वित्तीय अनियमितताएं कर निगम को आरोपी द्वारा हानि पहुचाने का उल्लेख किया गया है।

इस प्रकार के मामला सामने आने पर प्रबंध संचालक द्वारा आरोपी के विरूद्ध पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने का निर्णय लिया एवं प्राथमिकि दर्ज कराने हेतु प्रकाश कुमार को मुख्यालय के पत्र द्वारा अधिकृत किया गया । उक्त रिपोर्ट में कृषक बीज अग्रिम एवं बीज उपार्जन लेखा मद में आरोपी सुरेश गुप्ता द्वारा 37,23,722/- रूपये की गड़बड़ी, बीजों की अफरा तफरी एवं हेरा फेरी किया जाना पाया गया।

इससे मुख्य रूप से बीज उपार्जन के भुगतानो में अधिक मात्रा का भुगतान करना, अग्रिम धनराशि जमा करायेकृषको का फेल/ निरस्त बीज खुर्द बुर्द कर गडवडी की जाना कृषकों को उनसे उपार्जित बीज के विरूद्ध उचित एवं पर्याप्त ढंग से आंकलित कर अग्रिम भुगतान नही कर मनमाने ढंग से भुगतान दर्शाये गये।

उक्त घटना पर से थाना खातेगांव पर अपराध 200/13 कायम किया गया प्रकरण अनुसंधान में लिया गया अनुसंधान पूर्ण होने के पश्चात आरोपी सुरेश गुप्ता के विरूद्ध अभियोग पत्र न्यायिक दण्डाधिकारी महोदय प्रथम श्रैणी खातेगॉव में प्रस्तुत किया गया किन्तु प्रकरण का विचारण सत्र न्यायालय का होने से माननीय अपर सत्र न्यायालय में प्रकरण अंतरित किया गया।

प्रकरण के विचारण के दौरान न्यायालय में समस्त साक्षीयो के साक्ष्य निर्धारण के पश्चात अभियोजन युक्तियुक्त संदेह से प्रमाणित करने में सफल रहा की आरोपी सुरेश गुप्ता द्वारा लोक सेवक नाते कर्तव्य निर्वहन के दौरान 50,58,599/- रूपये का आपराधिक न्यास भंग कारित किया है। आरोपी ने उक्त अवधि में अपने लोक सेवक कर्तव्य नाते उसके आधिपत्य में जो अभिलेख थे।

उन्हें बेईमानीपूर्ण आशय से उनमें सही इन्द्राज न करके अथवा त्रुटिपूर्ण इन्द्राज करके प्रवंचना द्वारा 50,58,599/- रूपये का अवैध लाभ प्राप्त कर छल कारित किया है। अपर लोक अभियोजक द्वारा व्यक्त किया गया की एक लोक सेवक द्वारा बेईमानीपूर्ण व रिकार्ड को सही इन्द्राज न करके त्रुटिपूर्ण रेकॉर्ड तैयार किया ऐसे आरोपी को कठोर कठोर से दण्ड देने का निवेदन किया।