murder

घुटनें के बल फांसी पर झूलता मिला आदिवासी पौढ़ का शव

207
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी- पुलिस चौकी बम्हनी अंतर्गत आज उस समय हड़कंप मच गया, जब सीधी सेमरिया मार्ग स्थित कुबरी गजाज नदी के पास एक युवक फांसी के फंदे पर लटकता देख ग्रामीणों में हड़कंप मच गया.

बता दें कि पुलिस चौकी सेमरिया अंतर्गत अमीरे प्रजापति पिता दादाई प्रजापत निवासी पोड़ी उम्र लगभग 45 वर्ष का मंगलवार को कुबरी गजस नदी के पास एक पेड़ पर फांसी के फंदे पर लटकता मिला. मृतक के पत्नी का माने तो सोमवार के दिन लगभग 4 बजे खाद्यान्न न मिलने की शिकायत को लेकर पुलिस चौकी सेमरिया पति पत्नी पहुंचे हुए थे.

जहां सेमरिया पुलिस द्वारा पत्नी को घर जाने को बोल दिए और पति को बैठा रहे और शाम 10:30 बजे के आसपास पत्नी खाना लेकर सेमरिया चौकी आई, तो सेमरिया पुलिस द्वारा बताया गया है कि हम उसे छोड़ दिए हैं और वह चला गया और पत्नी रात भर इधर-उधर तलाशती रही.

Murder Case

Janmanchnews.com

लेकिन, पति कही पता का नहीं लगा. मंगलवार के दिन सुबह 7 बजे के आसपास गजराज नदी में फांसी के फंदे पर लटकाने की खबर मिली. मृतक के पत्नी का सीधा-सीधा आरोप है कि पुलिस चौकी सेमरिया द्वारा मारपीट की गई और जब मौत हो गई तो उसे पेड़ पर लटका दिया गया है.

इस घटना को लेकर परिजन एवं ग्रामीणों ने सुबह9 बजे से चक्का जाम कर दिया. जहां 12 बजे तक मार्ग बाधित रहा. इस घटना की जानकारी होते ही सेमरिया, बम्हनी, चुरहट, रामपुर नैकिन एवं सीधी एडिशनल एसपी सूर्यकांत शर्मा सहित पुलिस हालात को काबू करने के लिए मौजूद रहे. इस घटना में एसडीएम, तहसीलदार मौके पर पहुंचे.

3 घंटे लगातार मार्ग रहा बाधित:-

प्रशासनिक अधिकारियों ने लाख समझाया. लेकिन, ग्रामीणों ने चक्का जाम ना खोलने की जिद पर अड़े रहे और कलेक्टर एसपी घटनास्थल पर आए और सेमरिया पुलिस के सभी स्टाफ को लाइन अटैच करने की मांग पर अड़े रहे.

आखिरकार 12 बजे प्रशासन पुलिस द्वारा सभी को हटाते हुए चक्का जाम हटाया और ग्रामीणों को खदेड़ा तब जाकर रास्ता खोला. वहीं हैरान करने वाली बात यह भी है कि जिस पेड़ पर अमीरे प्रजापत लटक रहे थे. वह पेड़ लगभग 5 फीट के आसपास था. जहां अमीरे प्रजापत का पैर पूरी तरह से जमीन में छुआ हुआ था. इससे यह संदेह के दायरे में आता है कि अगर पैर जमीन में छुआ हुआ है, तो फांसी कैसे लग सकती है यह तो जांच का विषय है.

वहीं इस घटना को लेकर चुरहट क्षेत्र के विधायक सरतेदु तिवारी का कहना है एडिशनल एसपी सूर्यकांत शर्मा द्वारा हमें आश्वासन दिए हैं कि पूरी निष्पक्ष जांच होगी और दोषी पर कार्रवाई होगी. श्री तिवारी का कहना है कि यह घटना बहुत ही दुखद दायिनी है.

इस घटना की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और निष्पक्ष जांच एवं दोषी के खिलाफ 302 एसटीएससी का मामला दर्ज हो और रात में जो मौजूद पुलिसकर्मी थे, उन्हें लाइन हाजिर किया जाए अगर निष्पक्ष जांच नहीं हुआ, तो बड़े आंदोलन की भी चेतावनी दी है.

वहीं भाजपा के जिला अध्यक्ष डॉ. राजेश मिश्रा का कहना है कि मृतक की पत्नी का सीधा-सीधा आरोप है कि सेमरिया चौकी में पति को 11बजे रात तक रखे रहे. इसके बाद उसको छोड़े दिए फिर फिर आज सुबह 7 बजे संदेह की स्थिति में फांसी के फंदे में लटकता मिला अमीरे प्रजापत को देख कर ऐसा लगता है कि हत्या नहीं आत्महत्या है इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और  दोषी पाए जाने पर कार्रवाई भी होनी चाहिए.