BREAKING NEWS
Search
strike

शहर में दिखा भारत बंद का असर, कई दुकाने रही बंद, नहीं चली कोई बसे

507
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी। भारतीय संविधान में दर्ज हुए अनुच्छेद 18 ए व सुप्रीम कोर्ट फैसले के विरोध में पारित हुए भारतीय अनुच्छेद का लोगों ने पूरे भारत को बंद कर विरोध जताने का समर्थन जिले में भी मिल रहा हैं। व्यापारियों ने जहां अपने-अपने प्रतिष्ठान बिना किसी दबाव के बंद किए हुए हैं।

वहीं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए हर गली चौराहे में पुलिस की एक टोली बैठाई गई हैं जो हर गतिविधियों पर निगाहें रखे हुए बंद का असर कितना रहा इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता हैं, कि सीधी जिले के नए व पुराने दोनों बस स्टैंडों से एक भी बस किसी शहर के लिए रवाना नहीं हुई।

इतना ही नहीं जिला प्रशासन के निर्देश आंदोलनकारियों के आह्वान पर जिले के सभी पेट्रोल पंप बंद किए गए हैं तो आंदोलनकारी शासन के इस निर्णय का विरोध करने के लिए कलेक्ट्रेट के सामने वीथिका परिसर में जमा होने लगे हैं। पेट्रोल पंप बंद दारू की दुकानें खोलें
भारत बंद के किए गए। आहवाहन पर व्यापारियों ने जहां अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद कर लिए हैं।

वही जिला प्रशासन सुरक्षा की दृष्टि से सभी स्कूल कॉलेज प्रतिष्ठान बंद करने के निर्देश जारी किया हैं तो सुरक्षा की दृष्टि से शहर के सभी पेट्रोल पंप बंद किए गए हैं। जिससे लोगों को असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा हैं। लेकिन जिला प्रशासन ने शराब की दुकानों को बंद नहीं कराया हैं। जिसके चलते असामाजिक तत्व जो शराब पीकर आए दिन उपद्रव फैलाते हैं।

उनके लिए एक संसाधन उपलब्ध करा दिया हैं। शराब की दुकान बंद होती तो नशा कर शांतिपूर्वक चल रहे आंदोलन को उग्र आंदोलन में बदलने मैं उनको कामयाबी हासिल नहीं हो पाती। लेकिन प्रशासन की अदूरदर्शिता कहे या शराब के व्यापारियों पर अंकुश ना हो पाने की पुष्टि करें कुछ भी हो दुकानें खुली हैं। खरीददार शराब खरीद कर जमकर उपद्रव की तैयारी कर रहे हैं।

10 अप्रैल को भी पूरे देश भर में आंदोलन प्रदर्शन किया गया था। जिसमें सीधी जिले के कलेक्ट्रेट परिसर में सी शराबियों के कारण लाठीचार्ज के नौबत आ गई। इतना ही नहीं पुलिस को हवाई फायर तक करना पड़ा था।