Rampur Police station

निरीक्षक को हटाना था, लापरवाही तो केवल एक बहाना था

223
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी- जिले के रामपुर नैकिन थाने के निरीक्षक विनायक प्रसाद योगी को पुलिस अधीक्षक तरूण नायक द्वारा तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. निलंबन के दौरान उनका मुख्यालय पुलिस लाइन सीधी निर्धारित किया गया है.

पुलिस अधीक्षक द्वारा निरीक्षक पर निलंबन की यह कार्रवाई आईजी रीवा रेंज रीवा द्वारा जारी किए गए. निर्देश का पालन न करने एवं लोकसभा निर्वाचन के दौरान गिरफ्तारी वारंट की तामीली में लापरवाही बरतने को लेकर कार्रवाई की गई है.

पुलिस अधीक्षक तरूण नायक द्वारा जारी निलंबन आदेश में लेख किया गया है कि कार्यालय पुलिस महानिरीक्षक रीवा जोन रीवा के पत्र क्रमांक पुमनि/रीवा/अप.-451/19 दिनांक 11 मार्च 2019 एवं पुलिस अधीक्षक कार्यालय सीधी के पत्र क्रमांक पुअ/सीधी/रीडर/428-पी/19 दिनांक 15 मार्च 2019 के माध्यम से पालन हेतु भेजी गई थी.

जिसके विंदु क्रमांक-2 में स्पष्ट रूप से लेख किया गया है कि घाव से यदि खून बह आया है, तो अपराध का पंजीयन करें. इस कार्यालय के वितंतु संदेश क्रमांक पुअ/सीधी/रीडर/428-पी/19 दिनांक 22 मार्च 2019 द्वारा भी निर्देशित किया गया है कि जिन मजरूबों के घाव से यदि खून बह आया है, तो अपराध का पंजीयन करें.

किंतु, थाना रामपुर नैकिन में संधारित मजरूब रजिस्टर एवं फाइल का अवलोकन किए जाने पर पाया गया कि 11 मजरूबों का मेडिकल परीक्षण कराया जाकर नतीजा प्राप्त किया गया है. जिनकी मेडिकल रिपोर्ट में चोंट का लेख किया गया है. मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर तत्काल अपराध का पंजीयन किया जाना चाहिए था.

किंतु, बार-बार निर्देशित किए जाने के बावजूद काफी समय व्यतीत हो जाने के बावजूद टीआई रामपुर नैकिन द्वारा अपराधों का पंजीयन नहीं किया गया. जो कि वरिष्ठ स्तर से दिए गए निर्देशों की अवहेलना एवं थाना प्रभारी के रूप में कर्तव्य निर्वहन में लापरवाही को प्रदर्शित करता है.

गिरफ्तारी वारंट तामीली में भी की गई लापरवाही-

पुलिस अधीक्षक द्वारा जारी निलंबन आदेश में यह भी लेख किया गया है कि थाना रामपुर नैकिन में मार्च माह में कुल 134 गिरफ्तारी वारंट तामीली हेतु लंबित थे. इसमें से मात्र 44 वारंटों की तामीली की गई है. एवं 51 वारंट अदम तामील वापस किया जाना पाया गया.

इसी प्रकार अप्रैल माह में कुल 71 गिरफ्तारी वारंट में नौ वारंटो की तामीली की गई है एवं 42 गिरफ्तारी वारंट वापस किए गए. लोकसभा निर्वाचन 2019 को दृष्टिगत रखते हुए गिरफ्तारी एवं स्थाई वारंटों की अधिक से अधिक तामीली हेतु लगातार निर्देशित किए जाने के बावजूद थाना प्रभारी रामपुर नैकिन द्वारा गिरफ्तारी वारंटों की तामीली में कोई रूचि प्रदर्शित नहीं की गई.

उपरोक्त कृत्य वरिष्ठ स्तर से दिए गए निर्देशों की अवहेलना, लापरवाही एवं स्वेच्छ्याचारिता को प्रदर्शित करता है, अत: निरीक्षक विनायक नाथ योगी थाना रामपुर नैकिन को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाकर रक्षित केंद्र सीधी पदस्थ किया गया है.

इन पीडि़तो की मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद भी अपराध दर्ज करने में की गई लापरवाही-

थाना प्रभारी रामपुर नैकिन द्वारा 11 ऐसे पीडि़तों की शिकायत के बाद अपराध पंजीबद्ध करने में लापरवाही बरता जाना पाया गया है. जबकि, इन पीडि़तों की मेडिकल परीक्षण रिपोर्ट भी आ चुकी थी और मेडिकल रिपोर्ट में चोंट से खून बहना चिकित्सक द्वारा उल्लेखित किया गया था.

पीडि़तों में गुड़िया साकेत, गीता पटेल, विपिन कोरी, सुमित तिवारी, अनुज साकेत, रामू साकेत, मैनी बंसल, तिलकराज साकेत, रामसुशील वैश्य, बाल्मीक मुंडहा, अजीत लोनिया शामिल हैं.