trade fair

आज से पब्लिक के लिए शुरू हुआ Trade Fair, किसी भी परेशानी से बचने के लिए पढ़ें ये खबर

117

New Delhi: प्रगति मैदान में आयोजित 39वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले के दरवाजे मंगलवार से आम दर्शकों के लिए भी खुल गए हैं। ऐसे में अब यहां रोजाना ही अच्छी-खासी भीड़ देखने को मिलेगी। हालांकि मेला के आयोजक भारतीय व्यापार संवर्धन परिषद (आइटीपीओ) ने हर दिन मेले में एक बार में 30 से 35 हजार दर्शकों को ही प्रवेश देने की योजना बनाई है।

ऑफ लाइन और ऑनलाइन दोनों तरह से मिल रही टिकट

व्यापार मेले के लिए टिकट की बिक्री ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से हो रही है। ऑनलाइन टिकट के लिए बुक माई शो का सहारा लेना होगा, जबकि ऑफलाइन टिकट प्रगति मैदान स्टेशन को छोड़कर 66 मेट्रो स्टेशनों से ली जा सकती है। टिकट दर बच्चों के लिए 40 रुपये तथा वयस्कों के लिये 60 रुपये है। शनिवार और रविवार को वयस्कों का टिकट 120 रुपये और बच्चों का टिकट 60 रुपये का होगा। वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों का प्रवेश नि:शुल्क रखा गया है।

पाकिस्तान इस बार भी नहीं

27 नवंबर तक चलने वाले मेले की थीम इस बार ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रखी गई है। साझीदार देश अफगानिस्तान को बनाया गया है, जबकि फोकस देश दक्षिण कोरिया रहेगा। इसी तरह साझीदार राज्य झारखंड, जबकि फोकस राज्य बिहार को बनाया गया है। नवीनीकरण कार्य के चलते इस बार भी व्यापार मेला कमोबेश 50 फीसद से भी कम हिस्से में हॉल नं. 7, 8, 9, 10, 11, 12 और 12 ए में आयोजित किया गया है। इस बार मेले में 19 देशों के 135 भागीदारों ने शिरकत की है। पिछले चार सालों की तरह पाकिस्तान इस बार भी नहीं है। मेले में करीब 800 स्टॉल हैं, जिनमें 150 विदेशी कंपनियों के हैं। हॉल नं. 7ई में थीम मंडप बनाया गया है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के नाम पर केवल राज्य दिवस समारोह ही आयोजित किए जा रहे हैं।

कई मार्गों पर नो पार्किंग

व्यापार मेले में आने वाले लोगों की संख्या के चलते सड़क पर लगने वाले जाम को दृष्टिगत रखते हुए यातायात पुलिस ने कई मार्गों पर नो पार्किंग की व्यवस्था की है। वहीं कई मार्गों पर जाम से बचने के लिए वाहन चालकों को वैकल्पिक मार्ग का प्रयोग करने की सलाह भी दी है। मेले में प्रतिदिन 20-25 हजार दर्शकों के आने की उम्मीद की जा रही है। इस कारण, मथुरा रोड, भैरों रोड, रिंग रोड, शेरशाह रोड और पुराना किला रोड पर मेले के दिनों में वाहनों की संख्या बढ़ने के कारण जाम लगने की स्थिति भी बनने की संभावना है।

कैसे पहुंचे ट्रेड फेयर

  • व्यापार मेले में आने वाले लोग सड़क पार करने के लिए दो फुटओवर ब्रिज का प्रयोग कर सकते हैं। पहला फुटओवर ब्रिज गेट नंबर 5 के पास, नेशनल स्टेडियम और दूसरा फुटओवर ब्रिज डब्ल्यू-प्वाइंट / ए-प्वाइंट पर है।
  •  मथुरा रोड और भैरों रोड पर कहीं भी किसी भी वाहन को रुकने या पार्क करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  •  मेले में आने वाले लोगों के किसी भी वाहन को शेरशाह रोड, पुराना किला रोड, भगवान दास रोड पर पार्क करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  •  इन सड़कों पर खड़े वाहनों को टो करके वहां से उठाया जाएगा। ऐसे वाहनों का चालान भी किया जाएगा।
  •  मथुरा रोड पर यू-टर्न, डब्ल्यू प्वाइंट और टी-प्वाइंट के बीच सुब्रrणयम भारती मार्ग के बीच सभी कट प्रतिबंधित रहेंगे।
  •  मथुरा रोड से पुराना किला रोड के लिए दाएं और बाएं मुड़ने की भी अनुमति नहीं होगी।
  •  भैरों रोड के गेट नंबर 1 पर लोगों के लिए प्री-पेड ऑटो की सुविधा उपलब्ध होगी।

यहां होगी पार्किंग

  • भैरों मंदिर
  •  चिड़ियाघर पार्किंग
  •  जब्ता मस्जिद पार्किंग
  • रक्षा भवन पार्किंग
  • मान सिंह रोड
  •  विज्ञान भवन के पीछे

वाहन चालक इन मार्गों का प्रयोग करने से बचें

  • भैरों रोड
  • पुराना किला रोड
  • शेरशाह रोड
  • मथुरा रोड डब्ल्यू-प्वाइंट से मथुरा रोड सुब्रणयम भारती मार्ग

व्यापारी वर्ग के अंतिम दिन 12 हजार लोग मेले में पहुंचे

प्रगति मैदान में आयोजित अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में व्यापारी वर्ग के अंतिम दिन करीब 12 हजार लोगों ने मेले का दीदार किया। गत दो दिनों के भीतर शनिवार व रविवार को रही भीड़ के मुकाबले यह संख्या कुछ कम रही। हालांकि, मेले के पांचवे दिन भी अच्छी खासी चहल पहल देखने को मिली। आम जनता के लिए मंगलवार को मेला खुलने के बाद आंकड़े में इजाफा होने की उम्मीद है।

लोग सोमवार को सुबह से ही मेले में पहुंच रहे थे, लेकिन भीड़ में इजाफा दोपहर बाद होना शुरू हुआ। यहां लोग दिनभर परिवार व दोस्तों के साथ मौज मस्ती करते हुए दिखे। पंडालों में भी लोगों की भीड़ देखने को मिली। जहां कुछ लोगों ने जमकर खरीदारी की तो वहीं, कुछ लोगों ने प्रदर्शनी देखकर ही आनंद लिया। सबसे अधिक भीड़ घरेलू उपयोग व अंतरराष्ट्रीय पंडालों में देखने को मिली। विदेशी मशीनों व नई तकनीक के बारे में जानकारी को लेने को लोग उत्सुक दिखे। मेले में इन दिनों लोग हथकरघा व हस्तशिल्प के उत्पादों को लेकर भी दिलचस्पी दिखा रहे हैं। विभिन्न राज्यों के पंडालों में वहां के कारीगरों द्वारा हस्तनिर्मित कपड़ों समेत अन्य चीजों की लोग जमकर खरीदारी कर रहे हैं। स्टॉल संचालकों का कहना है कि हर वर्ष लोग प्राकृतिक रूप से तैयार किए गए कपड़ों को खरीदने में दिलचस्पी दिखाते हैं।