Nahid Fareen

IS के खिलाफ गाना गाने पर दर्जनों मौलानाओं का फतवा, लड़की ने दिया जवाब

131

टीम डिजिटल,

गुवाहाटी। असम में एक-दो नहीं बल्कि एक साथ लगभग 50 मौलानाओं ने 16 साल की एक होनहार गायिका (सिंगर) नाहिद आफरीन के खिलाफ फतवा जारी कर दिया है। आफरीन, साल 2015 में म्यूजिकल रिऐलिटी टीवी शो इंडियन आइडल जूनियर की फर्स्ट रनर अप रही थी। आफरीन के खिलाफ यह फतवा इसलिए जारी किया गया है ताकि उसे लोगों के सामने गाना गाने से रोका जा सके।
इस मामले में पुलिस के वरीय अधिकारियों का कहना है कि नाहिद ने हाल ही में आतंकवाद जिसमें आईएस (IS) टेरर ग्रुप भी शामिल है, के खिलाफ कुछ गाने परफॉर्म किए थे। ऐसे में पुलिस इस मामले की जांच इस दृष्टिकोण से भी कर रही है कि कहीं यह फतवा इस बात की प्रतिक्रिया तो नहीं। एडीजी स्पेशल ब्रांच पल्लब भट्टाचार्य ने कहा, ‘हम इस ऐंगल से भी मामले की जांच कर रहे हैं।’

मंगलवार को मध्य असम के होजई और नागांव जिलों में ऐसे कई पर्चे बांटे गए जिसमें असमिया भाषा में फतवा और फतवा जारी करने वाले मौलानाओं का नाम लिखा था। इस फतवा के मुताबिक, 25 मार्च को असम के लंका इलाके के उदाली सोनई बीबी कॉलेज में 16 साल की नाहिद को परफॉर्म करना है जो पूरी तरह से ‘शरिया के खिलाफ’ है।

फतवा के मुताबिक, ‘म्यूजिकल नाइट जैसी चीजें पूरी तरह से शरिया के खिलाफ है। अगर इस तरह की चीजें मस्जिद, इदगाह, मदरसा और कब्रिस्तान के आसपास होने लगीं तो हमारी भविष्य की पीढ़ी को अल्लाह की नाराजगी झेलनी पड़ेगी।’ महज 16 साल की यंग सिंगर नाहिद आफरीन, दसवीं क्लास की छात्रा है जो बिस्वनाथ चारिअली इलाके में रहती है। फतवा की बात सुनते ही नाहिद रोने लगी। उसने कहा, ‘मैं इस पर क्या कहूं। मैं पूरी तरह से अवाक हूं। मुझे लगता है कि मेरा संगीत अल्लाह का तोहफा है मेरे लिए। मैं इस तरह की धमकियों के आगे झुककर अपना संगीत नहीं छोड़ूंगी।’

नाहिद की मां ने कहा, ‘म्यूजिकल नाइट प्रोग्राम के आयोजकों ने हमसे कहा है कि यह प्रोग्राम कैंसल नहीं होगा।’ पुलिस ने कहा कि नाहिद और उनके परिवार को पूरी सुरक्षा मुहैया करायी जाएगी। नाहिद ने साल 2016 में बॉलिवुड ऐक्ट्रेस सोनाक्षी सिन्हा की फिल्म ‘अकीरा’ के लिए गाना गाया था। उससे पहले टीवी के रिऐलिटी शो इंडियन आइडल जूनियर में भी नाहिद की पारी बेहद सफल रही थी। नाहिद ने वैष्णव संत श्रीमंत संकरदेव के लिखे और कंपोज किए बेहद खूबसूरत गाने गाए हैं जिसने नाहिद को असम में लोकप्रिय बनाया।