रोमियो बने कोतवाल पर चला आईजी का डंडा, बोले- आरोपी इंस्‍पेक्‍टर पर दर्ज हो FIR

193

बरेली।  उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की ओर से हर थाने में एंटी रोमियो स्क्वॉड गठित कर पुलिस महिलाओं एवं लड़कियों के साथ होने वाली छेड़खानी को रोकने की कोशिश में लगी हुई है। लेकिन, जब एंटी रोमियो टीम का सदस्य ही रोमियो बनकर छेड़छाड़ करने लगे तो पीड़ितों को इंसाफ मिलना बहुत मुश्किल हो जाता है। ऐसा ही एक मामला बरेली में सामने आया है। एक छात्रा ने बदायूं में तैनान थानेदार पर व्‍हाट्सएप के जरिए परेशान करने का आरोप लगाया है। छात्रा की ओर से आईजी कार्यालय में इस बात की लिखित शिकायत की गई है।

सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही है छात्रा

बदायूं निवासी और बरेली में रहकर सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही छात्रा का आरोप है कि एक बार उसके पिता से पड़ोस के लोगों का विवाद हो गया था। छात्रा का कहना है कि इसके बाद उसने कोतवाल जिनका नाम एसपी उपाध्याय है,उनको फोन किया और मामले की जानकारी दी। फिर क्‍या था इंस्‍पेक्‍टर के पास छात्रा का नंबर आ गया। उसके बाद कोतवाल छात्रा को रोज अश्लील मैसेज भेजने लगा। उसको व्हाट्सअप पर मैसेज करके हर रोज परेशान करता और मिलने के लिए दबाव बनाने लगा।

इंकार करने पर आरोपी ने की पिता की पिटाई

छात्रा का आरोप है कि इंस्‍पेक्‍टर को इंकार करने पर वह उसके पिता को बिना किसी आरोप के फर्जी मामले में फंसाकर थाने में ले जाकर रात भर पिटाई की। जिसकी शिकायत बदायूं के डीएम और एसएसपी से की गई लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद कोतवाल के हौसले और बुलंद हो गये। परेशान छात्रा ने शुक्रवार को इस संबंध में आईजी जोन से शिकायत की।

तुरंत हुई कार्रवाई

छात्रा की शिकायत और इंस्‍पेक्‍टर के सीयूजी नंबर से भेजे गये आपत्‍तिजनक मैसेज देख आईजी जोन विजय प्रकाश का गुस्‍सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। उन्‍होंने तत्‍काल फोन करके बदायूं के एसएसपी को तलब कर लिया और आरोपी इंस्‍पेक्‍टर को तत्‍काल प्रभाव से लाइन हाजिर करने के आदेश दे दिये। इसके अलावा आरोपी इंस्‍पेक्‍टर के खिलाफ आईजी ने एफआईआर दर्ज कराने के आदेश भी दे दिए हैं।