BREAKING NEWS
Search
Umesh Bajpee

कड़ी संघर्ष के बाद फिल्मी दुनिया में रायबरेली के लाल को मिला ऊंचा मुकाम

448
Rahul Yadav

राहुल यादव

रायबरेली। रायबरेली में जन्मे उमेश बाजपेई ने अपनी मेहनत और लगन के बल पर बीते लगभग 17 वर्षों से फिल्म जगत में अपनी अलग पहचान बनाए रखी है। बहुमुखी प्रतिभा के धनी उमेश बाजपेई शहर के क्रांतिपूरी निवासी पंडित रमेश बाजपेई के पुत्र हैं।

पिता रमेश बाजपेई और माता श्रीमती प्रभा बाजपेई ने उमेश बाजपेई को हमेशा संस्कारों और सिद्धांतों की सीख दी है। उनके बताए आदर्शो और संस्कारों के आधार पर उमेश बाजपेई ने जीवन में उत्तरोत्तर प्रगति की है। उनकी शिक्षा दीक्षा रायबरेली में हुई।

पढ़ाई पूरी करने के बाद जब वह मुंबई गए तो एक के बाद एक फिल्म और सीरियल तथा कमर्शियल ऐड को मिलाकर बड़ी संख्या में किरदार निभाए। उन्होंने ज्यादातर कॉमेडी रोल निभाया अपनी सफलता का श्रेय उन्होंने अपने पिता रमेश बाजपेयी और अपनी माता श्रीमती प्रभावती को दिया है।

दैनिक स्वतन्त्र चेतना के संवाददाता प्रशान्त त्रिपाठी से विशेष बातचीत में फिल्म अभिनेता व कलाकार उमेश कहते हैं कि इस मुकाम तक पहुंचने में उन्होंने कड़ी मेहनत और संघर्ष का सामना किया है। संघर्षों के बावजूद कभी भी उन्होंने हार नहीं मानी।

यही वजह रही कि सीढ़ी दर सीढ़ी संघर्ष करने के बाद उन्होंने एक मजबूत मुकाम हासिल किया। बहुमुखी प्रतिभा की धनी उमेश बाजपेई ने 7 फिल्मों, 52 सीरियल, 82 कामर्शियल ऐड और एक अंतर्राष्ट्रीय ऐड में काम कर चुके हैं।

हाल ही में प्रदर्शित फिल्में बंदूक राज और गेम ओवर में चरित्र अभिनेता की भूमिका निभाई है। श्री वाजपेई बताते हैं कि उनकी फिल्म गेम ओवर 8 दिसंबर को रिलीज हुई जबकि आई एम द जीरो फिल्म की आगरा में शूटिंग होने जा रही है। वह बताते हैं कि फिल्म मे दर्शाया गया है कि सब कुछ है लेकिन विद्या को किसी समुदाय में नहीं बांटा जा सकता।

इस फिल्म में मेरी भूमिका वाइस प्रिंसिपल की है। वह बताते हैं कि आगरा में इस फिल्म की शूटिंग लगभग 20 दिन तक चलेगी फिल्म जगत में उमेश बाजपेई की सफलता पर जनपद रायबरेली के लोगों ने ढेरों शुभकामनाएं दी हैं।