BREAKING NEWS
Search
ranvendra singh

लंबे समय से कर्ज में डूबे 5000 किसानो को मिला कर्ज मुक्ति पत्र

349
Mithiliesh Pathak

मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। लंबे समय से कर्ज में डूबे गरीब किसानो के चेहरे पर आज ख़ुशी के भाव थे। वे इस बात को सोचकर मन ही मन फूले नही समा रहे थे कि अब उनके घर कर्ज वसूली के लिए बैंक का नोटिस नही आएगा। वहीं सरकार की इस पहल से न सिर्फ किसानो के आर्थिक हालात भी सुधरेंगे। बल्कि 2022 तक किसानो के आय को दोगुना करने में मदद मिलेगी।

योगी सरकार ने चुनाव के दौरान किये हुए अपने एक और वादे पर मुहर लगाते हुए कर्ज के बोझ से दबे हजारों गरीब परिवारों को दो वक्त की रोटी को सुख से खाने का मौका जो दिया है। इतना ही नही कर्ज के बोझ से दबे किसान अब कर्ज माफ़ी के बाद सुकून से खेती-बाड़ी करके अपने परिवार का भरण-पोषण कर सकेंगे। 

करीब 6 माह पूर्व विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने यूपी में भाजपा की सरकार बनने पर किसानो के कर्ज माफ़ी का वायदा किया था। शाह की बातों पर यकीन करते हुए सूबे ने भाजपा को अपना पूर्ण समर्थन दिया और 325 सीटें जीतकर भाजपा ने सरकार बनाई। हलांकि सरकार बनने के बाद से ही कर्ज माफी कब होगी यह कयास लगाये जा रहे थे। जिस पर अब विराम लग चुका है। सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने मध्यम एवं सीमांत किसानो के ₹ 1 लाख तक के कर्ज को माफ़ करने का काम शुरू कर दिया है। इस योजना से श्रावस्ती जिले के 40132 किसान लाभान्वित होंगे। 

सोमवार को सूबे के मंत्री रणवेंद्र प्रताप सिंह “धुन्नी” ने कलेक्ट्रेट के निकट स्थित आईटीआई मैदान में आयोजित एक समारोह में 5000 किसानो को ऋण मोचन योजना का प्रमाण-पत्र सौंपा। विदित हो की उक्त योजना के लिए जिले के 40132 किसान चिन्हित किये गये हैं। जिनमे से 23348 किसान अपने बैंक खाते को आधार से लिंक करवा चुके हैं। जिनमे से पहले चरण में 15189 किसानो को ऋण मोचन के तहत छियानवे करोड़ अड़तालीस लाख उन्चास हजार एक सौ उन्सठ रूपये के ऋण माफ़ी का प्रमाण पत्र मिला। इनमे से 5000 किसानो को प्रभारी मंत्री ने ऋण माफ़ी का प्रमाण-पत्र सौंपा। 

प्रभारी मंत्री ने बताया की जल्द ही शेष किसानो को भी ऋण मोचन से लाभान्वित किया जायेगा। उन्होंने बताया की अगले सप्ताह से तहसील मुख्यालयों पर कैम्प का आयोजन कर 2000-2000 हजार किसानो को योजना से लाभान्वित किया जायेगा। इस प्रकार से आने वाले 100 दिन में योजना के तहत चिन्हित सभी 40132 किसानो को लाभान्वित कर दिया जायेगा।