BREAKING NEWS
Search
Janmanch News

जनमंच असर: महिला पत्रकार के साथ मंहगी पड़ी जहरखुरानी, गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज

308

ख़बर प्रकाशित होने के बाद… यूपी पुलिस ने सुनी महिला पत्रकार मिनाक्षी मिश्रा की आवाज़!

शबाब ख़ान,

अमेठी: एक साल से अधिक समय तक पुलिस प्रशासन के एक छोर से दूसरे छोर तक चक्कर काटने के बाद आखिरकार महिला पत्रकार मिनाक्षी मिश्रा की शिकायत पर सीओ बीनू सिंह की विवेचना के आधार पर उन सभी लोगों पर अमेठी कोतवाली में आपराधिक मुकदमा दर्ज हो गया जो मिनाक्षी के साथ जहरखुरानी करा रहे थे, साथ ही उन दुकानदारों के विरूद्ध भी एफआईआर पंजिकृत हुई है जो मिनाक्षी के ससुरालजनों के साथ पैसों की लालच में फंसकर महिला पत्रकार को जहर दे रहे थे।

ज्ञात हो कि महिला पत्रकार मिनाक्षी के ससुराल वाले जिनमें पति, सास, ननदे, भांजी मिलकर एक गहरी साजिश के तहत धीमा जहर देकर उसे मारना चाहते है। पति नें पैसों का इस्तमाल करके अमेठी के उन दुकानदारों को खरीदा जहॉ से मिनाक्षी खाने पीने का सामान खरीदा करती थी, उन दुकानदारों ने मिनाक्षी के पति द्वारा दिया गया पाउडर उसके सामानों में मिलाना शुरूकर दिया। जिसके सेवन से पत्रकार और उसके दस वर्षीय पुत्र की हालत बिगड़ने लगी। इस बाबत महिला पत्रकार मिनाक्षी ने पुलिस को लिखित शिकायत दी, लेकिन अमेठी पुलिस नें इस जहरखुरानी को महिला का वहम मानकर किनारा कर लिया।

ये ख़बरें जो प्रकाशित हुई थी…

साजिश: महिला पत्रकार को मारनें की हो रही है लगातार कोशिश

यह प्रकरण एक साल तक चलता रहा, महिला को खाने में धीमा जहर दिया जाता रहा, और वह कभी थाने का चक्कर लगाती तो कभी एसपी से शिकायत करती, लेकिन पुलिस ने जहरखुरानी को वहम मानकर कोई कार्यवाई नही की। अतत: मिनाक्षी नें अपनी आपबीती सहयोगी मीडिया कर्मियो को बताई। इसके बाद शुरू हुआ तू डाल डाल मै पात पात वाला खेल।

लगभग हर मीडिया हाऊस नें मिनाक्षी की आपबीती को मुख्यता से उठाया। लेकिन फिर भी जब कुछ नही हुआ तो पत्रकारों का एक प्रतिनिधिमंडल लखनऊ रवाना हो गया। जहॉं मिनाक्षी मिश्रा के मामले के बारे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं पुलिस महानिरीक्षक जावीद अहमद को अवगत कराया गया।

मिनाक्षी के ससुराल वालों पर 498A दहेज उत्पीडन, 328 (जहरखुरानी), 379 (चोरी), 506 (जान से मारने की धमकी), दहेज प्रतिबन्ध अधिनियम की धारा 3 व 4 का चार्ज लगा है। इसके अलावा चार दुकानदारो की नामजद 328 आईपीसी के चार्ज में एफआईआर दर्ज हुई है। इन सब में सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि अमेठी पुलिस का रवैया महिला पत्रकार मिनाक्षी मिश्रा के लिए सकारात्मक हो गया है।

[email protected]