BREAKING NEWS
Search
neelam khan home

कांग्रेस की पूर्व पार्षद नीलम ख़ान को कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने किया मकान से बाहर

660

सुनील कुशवाहा,

वाराणसी: चौहट्टा लाल ख़ान के तीन कबररिया क्षेत्र में तकरीबन 30 वर्षों से किराये के मकान में रह रही पूर्व कांग्रेस पार्षद नीलम ख़ान से आज आदमपुर पुलिस नें हाईकोर्ट के आदेश पर जबरन मकान खाली करा लिया।


आदमपुर थाना क्षेत्र के चौहट्टा लाल खान  में स्थित गुलाम कादिर के मकान में 30 वर्षों से कांग्रेस की पूर्व सभासद नीलम ख़ान सपरिवार किराये पर रह रहीं थी। मकान मालिक स्व० गुलाम कादिर नें जब मकान खाली करने को कहा तो किरायेदार नीलम खान के पिता नें कोर्ट से स्टे आर्डर इस आधार पर प्राप्त कर लिया कि बनारस के शहरी क्षेत्र में दूसरा मकान जो उनके बजट में हो किराये पर नही मिल रहा, इस पर लोवर कोर्ट नें मकान मालिक को आदेश दिया कि चूँकि आपके पास स्वंय रहनें के लिए अलग मकान है इसलिए आरसीए (रेण्ट कंट्रोल एक्ट) के अनुसार मकान मालिक किरायेदार को तब तक उसी मकान में रहने दे जब तक किरायेदार को उसके सहुलियल के अनुसार दूसरा मकान किराये पर नही मिल जाता।

लोवर कोर्ट के इस आदेश के बाद नीलम खान के पिता कोर्ट में ही मकान का किराया जमा करने लगे। और मुकदमें की हर तारीख पर एक एफिडेविट दाखिल कर देते कि ‘फिलहाल उनके पास रहने की कोई दूसरी व्यवस्था नही है और मकान मालिक को स्वंय रहनें के लिए विवादित मकान की अवश्यकता नही है इसलिए उन्हे मकान खाली करने को बाध्य न किया जाए’ इस तरह की पड़ी याचना पर अमूमन लोवर कोर्ट दूसरी तारीख दे देती है और इस विवाद में भी कोर्ट वर्षो तक यही करती रही। लेकिन अतत: लोवर कोर्ट नें मकान मालिक के पक्ष में फैसला देते हुए किरायेदारों से 6 माह में हर हाल में मकान खाली करने का निर्णय दे दिया। जिस पर किरायेदार पक्ष नें हाईकोर्ट की शरण ली।

इस बीच किरायेदार और मकान मालिक दोनो का निधन हो गया और मुकदमा उनके वारिसों के हाथ आ गया। इसमें किरायेदार पक्ष नीलम ख़ान और मकान मालिक पक्ष गुलाम कादिर के बड़े पुत्र सादिक अली बनें। इन दोनो के बीच विवादित मकान को लेकर दो दशक तक खीचतान चली। इस बीच किरायेदार पक्ष नीलम ख़ान के भाई राजू खान ने मकान मालिक के सामनें मकान को उचित कीमत पर उन्हे बेच देने का प्रस्ताव रखा जिसे सादिक अली ने ठुकरा दिया।

वर्ष 2012 में हाईकोर्ट ने भी मकान मालिक के पक्ष में फैसला देते हुए मकान खाली कर देने का आदेश दे दिया। जानकरी मिली है कि हाईकोर्ट में मुकदमा हार जाने के पश्चात किरायेदार पक्ष नें चौहट्टालाल खान क्षेत्र में ही एक मकान खरीद तो लिया लेकिन विवादित मकान को फिर भी खाली नही किया।

इस पर मकान मालिक पक्ष नें हाईकोर्ट से ‘फोर्सड इवेक्शन आर्डर’ की अर्जी डाल दी, इसके तहत हाईकोर्ट ने लगभग दो वर्षों के बाद आदमपुर पुलिस को यह आदेश दिया किया वो जबरन मकान को खाली करवा कर मकान मालिक को मकान पर काबिज कराये।

आदमपुर पुलिस आज लाव लश्कर लेकर विवादित मकान पहुँच गई जिस पर नीलम ख़ान नें स्वंय मकान खाली करके सादिक अली को मकान पर कब्जा दे दिया। दो घण्टे तक चली इस कवायद में तमाशाबीन व पूर्व पार्षद के सगे-संबधी मौके पर जमा रहे।