BREAKING NEWS
Search
handpump

गांवों की पेयजल व्यवस्था पटरी से उतरी…

300

ग्राम प्रधान को सूचित करने के बाबजूद नहीं बन पा रहे हैण्डपम्प…

सत्यम शुक्ला

इलाहाबाद (रत्यौरा )। विकास खण्ड कोरांव के ग्राम पंचायतों में हैण्डपम्प महिनों से खराब पड़े है जिसके कारण गांवो की पेयजल व्यवस्था पूरी तरह से पटरी से उतर चुकी है। तो वहीं जिम्मेदार मात्र अपनी रिपोर्ट भेजकर अपने कर्तवयों की इतिश्री करने में लगे है। ग्रामीण क्षेत्रों में तालाब भी अभी तक नही भरे गये है।

बताते चले कोरांव के रत्यौरा करपिया गाँव आदिवासी बस्ती में महीनों भर से खराब पड़े हैण्डपम्प की मरम्मत नही करायी है जिसकी सुचना ग्रामीणों द्वारा कई बार ग्राम प्रधान के घर जाकर सूचित किया गया है।

मजेदार बात तो यह है की जब गरीब आदिवासी ग्राम प्रधान को हैण्डपम्प् मरम्मत करवाने की बात कहते है तो प्रधान द्वारा जबाब मिलता है की आप लोग जाकर तहसील व् ब्लाक में सुचना दे यह अधिकारी का काम है व् आदेश जब हमे देगे तब हैण्डपम्प की मरम्मत करवादीजायेगी महीनो से खराब पड़े जिसके कारण गांवो की पेयजल ब्यवस्था पूरी तरह पटरी उतर चुकी है।

ग्रामीण क्षेत्रों में तालाब भी अभी तक नही भरे गये है जिसके चलते इस भीषण गर्मी में पशु पछी बेहाल है नगर व् ग्रामीण क्षेत्र की पेयजल ब्यवस्था को सुचारू बनाये रखने के लिए मुख्यमंत्री से लेकर जिला जिलाधिकारी तक न केवल चिंतित है। बल्कि पेयजल ब्यवस्था को पटरी पर लाने के लिये प्रयासरत भी है।

ऐसी समस्या टीकर व् देवीबाध मझिगवा व् खिवली गांव में हैण्डपम्प खराब देखने को मिले है इसके बाद भी स्थानीय ग्राम प्रधान व् कर्मचारियों की हिला  हवाली के चलते कई ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल ब्यवस्था सुचारू नही हो पा रही है।

भले ही प्रदेश में भाजपा की सरकार जब से बनी है पेयजल से लेकर विजली अन्य सभी को लेकर योगी सरकार एक्शन में भले ही नजर आते है लेकिन कोरांव क्षेत्र के प्रधान व् जिम्मेदार अधिकारिओ पर कोई असर दिखने को नही मिल रही है विकास खण्ड की ग्राम सभाओ में हैण्डपम्प् महिनो से रिबोर होने का इंतजार करते हुए सफेद हाथी बनकर खड़े है।

इसके आलावा क्षेत्रो में हैण्डपम्पों में छोटी मोटी मरम्मत की ही अवश्यकता है परन्तु विभागी कर्मचारीओ की लापरवाही के चलते उनकी मरम्मत नही हो पा रही है गांव में नये हैण्डपम्प्  लगाये जाने एंव खराब पड़े हैण्डपम्पो के रिबोर कराये जाने को लेकर ग्रामीणों के द्वारा जिलाधिकारी से मांग की है।