BREAKING NEWS
Search
Amethi DM

किसानों को आवारा पशुओं से मिलेगी निजात- जिलाधिकारी

247
Meenakshi Mishra

मीनाक्षी मिश्रा

अमेठी। विदित हो कि योगी सरकार के आने के पश्चात गौ हत्या पर लगाम व अवैध बूचड़ खानों को सख्ती से बंद कराने के चलते आवारा पशुओं की बाढ़ सी आ गयी है।

वहीं इन पशुओं के रख रखाव का कोई भी प्रबंधन सरकार द्वारा न किये जाने के कारण लोगों द्वारा प्रयोग मे ना आने वाले जानवरों को खुला छोड़ दिया जा रहा। जिसके चलते ये जानवर आये दिन झुण्ड बना कर किसानों की फसल को नुकसान पहुंचा रहे। साथ ही सड़कों पर घूम रहे इन आवारा जानवरों के कारण आये दिन हादसों का जबर्दस्त खतरा बना हुआ है।

जनपद में इन जानवरों के प्रबंधन के लिये उठ रही लगातार मांगों के एवज में जिलाधिकारी योगेश कुमार ने एसपीसीएस की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में की। बैठक के दौरान एसपीसीएस सोसाइटी पंजीकृत हो जाने के बाद जिलाधिकारी ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को संयुक्त बचत खाता खोलने की अनुमति प्रदान करते हुए कहा कि एसपीसीएस के अन्तर्गत आवारा पशु की देखभाल के लिए पैसे एकत्र किये जाएं।

Read this also…

पत्रकार पर हमले का हुआ खुलासा, धरे गये आरोपी

जिलाधिकारी ने कहा कि एसपीसीएस के सुगम संचालन हेतु धन की आवश्यकता पड़ेगी, इसलिए सभी सदस्य धन एकत्र करने के निर्देष दें। उन्होंने कि आवारा पशु के संरक्षण के लिए स्थापित उद्योग मालिक, नगर पालिका/नगर पंचायत के अधिशाषी अधिकारी, जनपद में लगने वाले पशु पैड के ठेकेदार धार्मिक संस्थान, निजी शिक्षण संस्थान व पशु प्रेमी संस्थाओं से धन एकत्र किये जाएं।

Amethi DM

File Photo: जिलाधिकारी योगेश कुमार

उन्होंने सक्षम विभाग के वरिष्ठ कोषाधिकारी को धन एकत्र करने के लिए सरकारी रसीद छपवाने का निर्देष दिया साथ ही प्राप्त धन का लेखा-जोखा दुरूस्त रखने का निर्देष दिया। उन्होंने एसपीसीएस भवन के एवं अन्य कार्य हेतु 2 एकड़ भूमि का आवंटन मुख्यालय के निकटतम हेतु करने का निर्देष संबंधित अधिकारियों को दिया।

साथ ही जिलाधिकारी ने बर्ड फ्लू जैसी संक्रामक बिमारी को लेकर कहा कि यह पक्षीयों से होने वाला विषाणु जनित संक्रामक रोग है।

सामान्यतः यह पक्षीयों को ही संक्रमित कर सकता है। उन्होंने कहा कि पक्षीयों द्वारा फैली बिमारी मनुष्यों को भी हो जाती है। अगर मनुष्य को सर्दी जुखाम खांसी, गले में खरास, मांसपेशियों में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, यकृत, गुर्दा व फेफड़ों का काम बन्द होना जैसी दिक्कतें आएं तो यह समझ लेना चाहिए कि बर्ड फ्लू के लक्षण हैं।

Read this also…

यूपी में कानून व्यवस्था बद्तर हालात में, हत्याओं का सिलसिला जारी, प्रशासन रोकने में नकाम!

उन्होंने कहा कि इससे बचने के लिए मुर्गी पालन के आस-पास साफ-सफाई रखे तथ कूड़ा-करकट व गंदगी इकठ्ठा न होने दें। मृत मुर्गियों का डिस्पोजल गढढे में दबाकर किया जाय।

जिलाधिकारी ने नगर पालिका/नगर पंचायत अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि तालाबों को चिन्हित कर साफ-सफाई की जाए। बैठक के दौरान अपर जिलाधिकारी श्री ईश्वर चन्द्र मौजूद रहे।

Meenakshi@janmanchnews.com