BREAKING NEWS
Search
Murder

योगी राज में पत्रकारों पर अत्याचार जारी, गुमराह करते हुए मुकदमे को किया जिलाबदर

617
Share this news...

अमेठी। विदित हो कि सपा सरकार की सर्वाधिक किरकिरी कानून व्यवस्था को लेकर हुई थी। जिसके सापेक्ष जनता ने कानून व्यवस्था में बेहतरी को ले कर भाजपा को जबर्दस्त वोट देकर सिर मौर बनाया।

जिसमें महिलाओ की भी बढ़-चढ़ कर भागीदारी रही। साथ ही और तो पत्रकारों ने भी भाजपा की अगुवाई करने में कोई कोर कसर नही छोड़ी। किन्तु भाजपा सरकार बनने के पश्चात सर्वाधिक निशाने पर पत्रकार वर्ग व महिला पत्रकार ही नजर आ रहे हैं।

Read this also…

‘भाभी’ से हुआ था इस एक्टर को प्यार! वेलेंटाइन डे के दिन रचाई शादी

विदित हो कि जनपद अमेठी में पत्रकारों पर लगातार अत्याचार जारी है। बीते कुछ महीनों में कभी पत्रकार की पुलिस के समुख ही गाड़ी जलाने के साथ उस पर जानलेवा हमला करना, जिसके एवज में महीनों बीत जाने के बावजूद आरोपियों का खुलेआम घूमना व पुलिस द्वारा चार्जशीट न लगाना, हाल ही पत्रकार को शरेआम गोलियों से भून देना कानून व्यवस्था की पोल खोल कर रख देता है।

वहीं बात करें महिला पत्रकार द्वारा दर्ज कराए गये मुकदमे क्राइम नं 190/17 की तो महिला पत्रकार का आरोप था कि उसके ससुराल पक्ष द्वारा गहरी साजिश के तहत धीमा जहर देकर जान से मारने की कोशिश की जा रही है।

Read this also…

मौत के 29 साल बाद भी खोजा जा रहा है इस शख्स का का कटा हुआ सिर…

जिस पर फोरेंसिक की मांग व निष्पक्ष जांच न होते देख महिला पत्रकार द्वारा 30 मई 2017 को अर्जी दी गयी कि या तो घटनास्थल पर पड़े सामान की फोरेंसिक जांच कराई जाए, या मुकदमा ट्रांसफर के लिये आदेशित किया जाये। जिसके पश्चात पुलिस अधीक्षक अमेठी द्वारा फोरेंसिक के लिये आदेशित कर दिया गया।

वहीं 2 माह पश्चात वादी पत्रकार के मुकदमे को बिना उसे जानकारी दिए द्वेष की भावना से व आरोपियों को फायदा पहुंचाने के लिये पुलिस द्वारा दूसरे जिले सुल्तानपुर ट्रांसफर कर दिया गया। जबकि फोरेंसिक जांच होने के पश्चात वादी ने कभी भी मुकदमा ट्रांसफर के लिये अर्जी नही दी। साथ ही वादी ने मूकदमा गैर जनपद ट्रांसफर के लिये भी कभी अर्जी नहीं दी।

उपपुलिस अधीक्षक की द्वेष भावना 

उपपुलिस पुलिस बलरामचारी दुबे की पत्रकार से द्वेष की भावना का आलम यह है कि वादी पत्रकार द्वारा अपने मुकदमे के बाबत जानने की कोशिश करने पर उसका नं रिजेक्ट लिस्ट में डाल दिया गया। साथ ही अन्य पत्रकार से बताया कि ऊपरी आदेश के चलते मामले को गैर जनपद ट्रांसफर किया गया है।

Share this news...