electricity board

धन उगाही करते हुए रंगे हाथ धरे गये विद्युत विभाग के जेई

195
Meenakshi Mishra

मीनाक्षी मिश्रा

जनपद अमेठी। एक ओर योगी सरकार पूरे प्रदेश में विद्युत व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त करने में लगी है। वहीं जनपद अमेठी में विद्युत विभाग में लगा भ्रष्टाचार का घुन रुकने का नाम नही ले रहा।

कभी छोटे कर्मचारियों द्वारा लाइन ठीक करने के नाम पर की जाने वाली वसूली, तो कभी उच्च अधिकारियों द्वारा अवैध तरीके से वसूला जाने वाला धन जनता के लिये सिरदर्द बना हुआ है।

साथ ही लाइन मैन की मिली भगत से अनेकों घर विद्युत चोरी में संलिप्त पाए जाते हैं। जिसका हर्जाना लाइन मैन को अदा कर दिया जाता है।

इसी क्रम में विद्युत भार वृद्धि का मानक से अधिक पैसा जेई अमित चौधरी द्वारा वसूली का मामला सामने आने से हड़कम्प मचा हुआ है। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब धड़ल्ले से वायरल हो रहा है। वहीं मामले के बाबत उच्चाधिकारी मौन बने हुए हैं।

दरअसल विधुत उपखंड जायस  में कर्मचारियों की मिलीभगत से बिजली की चोरी करवाये जाने की शिकायत माननीय ईएक्सईएन अमेठी से कई बार की गयी। लेकिन उच्चाधिकारियों द्वारा कोई कार्यवाही अब तक द्रष्टब्य नहीं है। अतः इस सम्बन्ध में ईएक्सईएन से बात करने पर साक्ष्य माँगा गया। जब की शिकायत की जाँच की गयी तो साक्ष्य मान लेना चाहिए लेकिन विभागीय कर्मचारियों को पूर्ण संरक्षण दिया गया है।

वहीं जब लक्ष्मण प्रसाद वर्मा ने उपभोक्ता लालता प्रसाद निवासी मवई आलमपुर थाना जायस जनपद अमेठी से जेई अमित चौधरी ने भार वृद्धि के नाम पर धन उगाही कर ₹2500 लिया और रसीद मात्र ₹330 की दी। जिसकी सूचना पीड़ित द्वारा ईएक्सईएन को दी गयी। वहीं जेई अमित चौधरी द्वारा अधिक लिया गया पैसा आज दिनांक 08 जून 2017 को उपभोक्ता को वापस किया गया।

किन्तु विचारणीय प्रश्न यह है कि इतना बड़ा साक्ष्य होने के बावजूद अधिकारी मौन क्यों हैं।

Meenakshi@janmanchnews.com