BREAKING NEWS
Search
Child labour

योगी के बाल श्रम पर रोक व सर्व शिक्षा अभियान को लगाते करारा झटका

432
Meenakshi Mishra

मीनाक्षी मिश्रा

जनपद अमेठी। वैसे तो योगी सरकार के आने के पश्चात देश के भविष्य नौनिहालों के लिये उनके द्वारा उठाये जा रहे त्वरित कदमों से ऐसा लग रहा था कि देश का भविष्य अब सुरक्षित हाथों में है।

किंतु सरकारें आती हैं और कानून बनाती हैं किंतु उनके अधीनस्थ कर्मचारी ही पहल के तौर पर कानून को तोड़ने में अव्वल दिखाई देते हैं। ऐसे में कानून को अमली जामा कौन पहनाये बड़ा प्रश्न है।

दरअसल यह करनामा वन विभाग के कर्मचारियों द्वारा अमली जामा पहनाया गया है। जिन नौहालों के हाथों में देश का भविष्य सँवारने के लिये किताबें होनी चाहिए। उन्हें वन विभाग ने सभी कानूनों की धज्जियां उड़ाते हुए फावड़ा पकड़ा दिया है। जिससे देश का भविष्य गर्त में है।

एक ओर जहाँ योगी सरकार नौनिहालों को शिक्षित करने के लिये विशेष प्रयास व सुधार करने पर जोर दे रही है। वहीं पर वन विभाग के कर्मचारी योगी के सपनों को मटियामेट करने में तनिक भी नही हिचक रहे।

सूत्रों के हवाले से खबर है कि वन विभाग द्वारा चिलचिलाती धूप में पैसे का लालच देकर नौनिहालों के हाथों में फावडा पकड़ाकर वृक्षारोपण के लिये खुदे हुऐ पुराने गड्डे को पटवाता हुआ देखा गया। यह मामला अमेठी जिले के तहसील मुसाफिर खाना क्षेत्र के अन्तर्गत कादूनाला के जंगल का है।

मिली जानकारी के अनुसार मुसाफिर थाना वन क्षेत्र के अन्तर्गत कादूनाले के पास जंगल मे वन विभाग के द्वारा दर्जनों नाबालिग बच्चें जिनकी उम्र तकरीबन 8 वर्ष से 15 वर्ष के बीच की है। इनकों वन विभाग के कर्मचारियों के द्वारा भीषण धूप व गर्मी में हाथों मे फावड़ा थमाकर पुराने गड्डे को पाटने के लिये लगा दिया गया।

वहीं मीडिया कर्मियों के पूछने पर शनि नामक बच्चें ने बताया की वह छठी क्लास का छात्र है। कल से लेकर आज तक हम सब बच्चों ने मिलकर लगभग 850 गड्ढो को पाट दिया है। हमें काम करने पर 175 रूपये मजदूरी प्रतिदिन के हिसाब से मिलेगी ऐसा हमें बताया गया है।

वहीं जब इस शर्मनांक वाकिये के बाबत डीएफओ अमेठी से पूछा गया तो उन्होंनें कहा कि मामले की जानकारी कर उचित कार्यवाई की जायेगी।

[email protected]