Abu Salem, convicted by TADA Court, been sentenced for Life Term and Rs

अबु सलेम को आजीवन कारावास, दो अन्य को मिला मृत्युदंड, फैसले से सरायमीर में सन्नाटा

85

1993 में हुये मुंबई दंगों के बाद दाऊद के ईशारे पर किये गये थे महानगर में सीरियल बम ब्लास्ट, 257 लोगों की हुई थी मौत और 713 लोग जख्मी हुये थे…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

आज़मगढ़: मुंबई में 1993 में हुये सीरियल बम ब्लास्ट मामलें में टाडा कोर्ट नें सभी अभियुक्तों को सजा सुना दी है। इस फैसले के आने के बाद एक बार फिर से यूपी का आजमगढ़ चर्चा का विषय बन गया है।

सीरियल बम ब्लास्ट मामलें में कोर्ट नें आजमगढ़ के सरायमीर कस्बे के माफिया अबु सलेम को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है, इसके साथ-साथ शिवराजपुर के रियाज सिद्दीकी को दस वर्ष की कठोर कारावास की सजा दी गई है। माफिया अबु सलेम पर दो लाख रुपए जुर्माना भी लगाया गया है। टाडा कोर्ट के इस फैसले के बाद अबु सलेम के पैतृिक गांव सरायमीर में सन्नाटा पसर गया है।

Read this also…

दलित महिला ने झोला छाप डॉक्टर पर जड़ा गंभीर आरोप, 3 माह पश्चात आख़िरकार FIR दर्ज

सरायमीर कस्बे के ज्यादातर मुस्लिम घरों के पुरुष सदस्य सऊदी अरब में काम करते हैं, उनके द्वारा भेजे गये फ़ारेन रेवेन्यु से सरायमीर कस्बा आम कस्बों से बिल्कुल अलग नजर आता है। इस कस्बे का हर घर पैसों की अंधाधुन रेलपेल की कहानी खुद बयॉ करता है, इसी लिए इस कस्बे को मिनी सऊदी भी कहा जाता है।

इसी कस्बे के तमाम लोग आज सुबह से ही मुंबई बम ब्लास्ट केस के फैसले के इंतजार में थे। दोपहर करीब 1:15 बजे जैसे ही टाडा कोर्ट नें अपना फैसला सुनाया और कस्बे के ही अबु सलेम को उम्रकैद की सजा दिये जाने की खबर आम हुई, पूरे कस्बे में सन्नाटा पसर गया। गलियों-सड़कों पर बहुत कम लोग नजर आये, जो नजर आये वो पूछे जाने पर किसी भी तरह की टिपिणी से बचते रहे।

कुछ बुज़ुर्गों को चर्चा में मशगूल पाकर जब हमने अबु सलेम को उम्रकैद दिये जाने की बात छेड़ी और उनसे टिपिणी चाही तो वो बोले कि “अबु सालिम कब माफिया अबु सलेम बन गया हमें नही मालूम, हमें यहॉ (सरायमीर) की गलियों में खेलने वाला अबु सालिम ही याद है।” कोर्ट के फैसले पर बोलने से सभी नें इंकार कर दिया।

Read this also…

डिलेवरी के फौरन बाद प्रसूता को किया बाहर…

बता दें कि मुंबई में 12 मार्च 1993 को हुए सीरियल बम ब्लास्ट में 257 लोगों की जान चली गई थी जबकि 713 लोग जख्मी हो गए थे। मुंबई को बम धमाकों से दहलाने वालों में शामिल दूसरे दोषी ताहिर मर्चेंट और फिरोज खान को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है, जबकि करीमुल्लाह को उम्रकैद और रियाज सिद्दकी को 10 साल की सजा सुनाई गई है।

माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम के इशारे पर हुई इस घटना में जनपद के सरायमीर कस्बा निवासी अबु सालिम उर्फ अबु सलेम तथा गंभीरपुर थाना क्षेत्र के शिवराजपुर ग्राम निवासी रियाज सिद्दीकी का नाम सामने आया था।

अबु सलेम जो घटना के बाद से देश से फरार था, पुर्तगाल में जाली पासपोर्ट मामले में गिरफ़्तार किया गया, बाद में अबु सलेम और उसके साथ पकड़ी गई उसकी प्रेमिका मोनिका बेदी को पुर्तगाल से प्रत्यर्पण संधि के आधार पर देश में लाया गया। मोनिका बेदी को मुंबई बम ब्लास्ट मामलें में अभियुक्त नही बनाया गया था।

Shabab@janmanchnews.com