BREAKING NEWS
Search
UP Police

थानाध्यक्ष ने कायम की मिसाल, चारों अोर हो रही है प्रशंसा

237

बिजनौर। हालांकि हम पत्रकार लोग हमेशा ही कानून व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त रखने के लिये लिखते हैं। जिसमें सबसे ज़्यादा पुलिस की कार्यशैली को लेकर सवालिया निशान लगाये जाते हैं। आम नागरिक के मन में पुलिस को लेकर जो धारणा बनी हुई है। वो कुछ हद तक बिल्कुल सही है। मगर कुछ पुलिस के अफसर ऐसे भी है जो समय आने पर मानवता का परिचय देकर पुलिस की बिगड़ी हुई छवि को सुधारने का काम करते है।

Read this also…

क्रिकेट टीम में सेलेक्शन न होने पर छात्र ने लगाई फांसी

ऐसी ही एक घटना कल घटी जिसके विषय में… मैं आगे लिखने जा रहा हूं। कल सुबह जनपद बिजनौर के नगर हल्दौर के थाना कार्यलय में थाना प्रभारी दुर्गेश कुमार मिश्र के पास बैठा था कि तभी एक लगभग सोलह वर्षीय नवयुवती रोटी-बिलखती थाने पहुंची।

जिसे देखकर लगा कि शायद कोई बड़ी घटना घटी है। थाना प्रभारी ने तुरंत महिला कांस्टेबल को बुलाकर पहले नवयुवती को पानी पिलवाया और उसके रोने का कारण पूछा तो युवती ने बताया कि वह मुहल्ला रईसान की रहने वाली है और अपनी पढ़ाई आगे जारी रखना चहती है।

Read this also…

सनबीम स्कूल ग्रुप के मालिक दीपक मधोक ने अमर उजाला व अमृत प्रभात पर ठोंका मानहानि का दावा

मगर उसके परिजन उसे आगे पढ़ाना नहीं चाहतें। यह सुनकर थाना प्रभारी दुर्गेश कुमार मिश्र ने अपने अधीनस्थों को आदेश देकर युवती के परिजनों को थाने बुलावा लिय थाने पहुचें। नवयुवती के परिजनों ने बताया कि उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। जिसके चलते वह अपनी लड़की को आगे पढ़ाने में असमर्थ है।

यह बात सुनकर इस्पेक्टर दुर्गेश कुमार मिश्र ने युवती के परिजनों की सहमति से युवती की आगे तक कि पढ़ाई लिखाई का सारा खर्च स्वंय वहन करने की बात कही तो युवती के परिजनों ने अपनी सहमति दे दी।

जिसके बाद इंस्पेक्टर दुर्गेश कुमार मिश्र ने युवती का प्रवेश स्नातक कक्षा में कराने के लिये नगद पैसे दे कर युवती के परिजनों को नसीहत दी कि अब जब तक भी युवती पढ़ना चाहे वह उसे पढ़ने दे। इसके साथ ही इंस्पेक्टर ने नवयुवती का एडमिशन कम्प्यूटर कोचिंग के लिये भी तत्काल करा दिया।

हल्दौर प्रभारी निरीक्षक के द्वारा किये गये इस कार्य की सभी लोग भूरी-भूरी प्रशंसा कर रहे है।