BREAKING NEWS
Search
farmer

किसानों की कर्जमाफी बताएगी वेबसाइट, बैंको के चक्कर से मुक्ति

673
Priyesh Shukla

प्रियेश शुक्ला

गोरखपुर। कर्जमाफी की जानकारी लेने को किसानों को अब बैंकों के चक्कर नहीं लगाने हैं। सरकार ने एक वेबसाइट जारी कर इस पर पूरा ब्यौरा दे दिया है। किसान एक क्लिक से ही अपनी कर्जमाफी और वास्तविक स्थिति से अवगत हो जाएंगे।

सरकार के गठन के तुरंत बाद कर्जमाफी की घोषणा की गयी थी। किसानों के कृषि लोन माफ़ किये पांच महीने पूरे हो गए हैं। कर्जमाफी के लिए सरकार ने इतने दिनों में कई रास्ते अख्तियार किये। किसान कर्जमाफी का लाभ लेने के लिए बैंक, तहसील से लेकर सभी संभावित फोरम पर दौड़ लगाए रहे। महीनों से दौड़भाग के बाद भी उन्हें तसल्ली नहीं मिल रही थी। भ्रष्टाचार की जड़ें इतनी गहरीं हैं कि हर जगह कर्जदार किसानों के लोन माफ कराने को ठगा जाने लगा।

कहीं स्थानों पर कर्जदार किसान इसके शिकार भी बने, लेकिन किसानों के प्रति सरकार ने जब यह जाना तो एक सरल रास्ता अख्तियार किया है। अब किसानों के सामने न तो बिचौलियों का खौफ है और न ही किसी भ्रष्टाचारी बैंककर्मी से ठगे जाने का भय ही। अब सरकार ने एक वेबसाईट upkishankrjrahat.upsdc.gov.in जारी कर कर्जदार किसानों को बड़ी राहत दी है। अब एक ही क्लिक में इन्हें किसी भी साइबर कैफे से अपनी कर्जमाफी के वास्तविक स्थिति की जानकारी मिल जाएगी।

इस वेबसाइट को डॉट इन करने पर ऋण की स्थिति आएगी फिर आगे बैंक का नाम तथा उसके बाद जनपद और आगे बैंक शाखा मोबाईल नम्बर डालना होगा। ऐसा करने पर आसानी से कर्जदार किसानों को अपने कर्जे में मिलने वाला लाभ का पता चल सकेगा।

किसान क्रेडिट कार्ड के तहत वर्षों से फसली लोन से दबे किसानों को कर्ज से उबारने के लिए एक लाख तक का कर्ज माफ करने का ऐलान आज से पांच माह पूर्व कर दिया था। बैंको के जोनल कार्यालय द्वारा भेजी प्रारूप पर कर्जदारों का खाका तैयार करना था। कर्जमाफी का लाभ पाने के लिए तभी से किसान अपने आधार कार्ड लेकर बैंकों पर इक्कठे होने लगे थे।

बैंको पर आधारकार्ड जमा का सिलसिला थम गया। भूमि सत्यापन के लिए कर्जदार किसानों की सूची फिर लेखपालों को भेज दी। लेखपाल तय प्रारूप पर किसानों के आधार कार्ड, मोबाईल नम्बर आदि तो जमा कर रहे हैं, लेकिन कर्जदार किसान अपने कर्ज के माफ़ी में लाभ मिलने न मिलने के बात पर संशय में हैं।