BREAKING NEWS
Search
Gorakhpur flood

दोआबा और कछार में कृषिमंत्री का तूफानी दौरा, आपदा की इस घड़ी में फर्ज निभाता एक किरदार!

443
Priyesh Shukla

प्रियेश शुक्ला

रुद्रपुर। आज बाढ़ की विभीषिका के आगे सभी नतमस्तक है। लोग डूब रहे है, उजड़ रहे है, बिखर रहे हैं। चारो तरफ पानी की सुनामी है, डबडबाई आँखें अपनो को खोज रही हैं। जिंदगी दाने दाने को मोहताज है। कहीं बांध टूट रहे हैं तो कोई टूटने के कगार पर हैं। कहीं चिलचिलाती धूप है, तो कहीं उमस, कभी बारिश रात भर सोने नही दे रही है।

कुछ ऐसी ही दशा दोआबा के 52 और कछार के 162 गांवों में रहने वाले लोगो की है। इस स्थिति में लोग अपने मशीहा (जनप्रतिनिधि) को खोज रहे है। जो इनकी दशा को देखे और कुछ करे। शायद अब कुछ ऐसा ही हो रहा है जो उनकी उम्मीद पर कायम है और आपदा की इस घड़ी में अपना फर्ज भी अदा कर रहा है।

Read this also…

बाढ़ से बेघर लोगों ने रेलवे स्टेशन को बनाया आशियाना!

हम बात कर रहे है उत्तर प्रदेश सरकार में कृषिमंत्री सूर्य प्रताप शाही की, जो लगातार रुद्रपुर के बाढ़ क्षेत्र में कई दिनों से डेरा डाले हुए है और जिनका बाढ़ से घिरे गावों का तूफानी दौरा बदस्तूर जारी है। हर पीड़ित का दर्द उनके चेहरे पर देखा जा सकता है। 

बाढ़ ने बाँध तो बहुत तोड़े पर कृषि मंत्री उससे तनिक भी विचलित नही हैं। धूप हो, बारिश हो कोई फर्क नही पड़ता। इनके इरादे लोहा हैं जो इस बाढ़ को जीत कर हर पीड़ित की मदद करना चाहते हैं। कभी टूटे रास्तों पर पैदल तो कभी साथी की मोटर सायकिल से ही निकल पड़ते हैं। कभी एन डी आर एफ की बोट, तो कभी मांझी की ड़ेंगी नाव पर ही राशन लेकर बाढ़ पीड़ितों के पास पहुँच जा रहे हैं।

दिन भर गावों का तूफानी दौरा और खाली समय में प्रशासन के साथ अगली तैयारी की रूप रेखा तैयार करने में लगे रहते हैं। समय समय पर प्रशासन के कार्यो का जायजा और हो रहे राहत सामग्री वितरण की जानकारी लेना इनकी दिनचर्या हो गयी है। कृषिमंत्री शाही जब राहत कार्य के लिए निकलते है तो साथ मे दर्जनों स्वयं सेवक सहयोग में होते हैं।

Read this also

बाढ़ के गाल में समाई 27 जानें, बचाव कार्य में उतरी सेना और NDRF

साथ में कभी राज्य मंत्री जयप्रकाश निषाद आगे आगे रास्तों और गांवों की पहचान करते रहते हैं तो कभी हमराही की तरह विधायक जन्मेजय सिंह होते है। छठ्ठे लाल निगम भी साये की तरह मंत्री का राहत कार्यो में हाथ बटा रहे हैं।

अब तक लगभग सुल्तानी पलिया, ईश्वरपुरा, बेलवा, नरायनपुर, सिलहटा, पीड़रा, जोगिया, एकौना जैसे कई दर्जन गांवों में सैकड़ो लोगों तक राहत सामग्री पहुँचाया जा चुका है। जो एक परिपक्व प्रतिनिधि का दायित्व है। कृषिमंत्री मंत्री सूर्यप्रताप शाही के इस सामाजिक और राजनीतिक उत्तर दायित्व को दोआबा और कछार की जनता जरूर याद रखेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करें।