BREAKING NEWS
Search
Gorakhpur Nikay Election 2017

चुनाव छोटा, जंग बड़ी…निकाय चुनाव बना सियासी दलों के प्रतिष्ठा का सवाल

254

— भाजपा के साथ-साथ सपा बसपा और कांग्रेस की प्रतिष्ठा भी दांव पर

— निकाय चुनाव भाजपा के लिए अर्धवार्षिक परीक्षा

Priyesh Shukla

प्रियेश शुक्ला

गोरखपुर (रुद्रपुर)। स्थानीय निकाय चुनाव में मतदान की तारीख जैसे जैसे नजदीक आता जा रहा है। प्रत्याशियों की जोर आजमाईश बढती जा रही है। चुनावी रंग में रंगे रुद्रपुर के चौक चौराहे व नगर की गलियां नुक्कड़ सभाओं और प्रचारकों के नारों के शोर से देर रात तक गूंज रही है।

सभी सियासी दल अपने अपने उम्मीदवारों के पक्ष में जनसमर्थन जुटाने के लिए वादों और मुददों से मतदाताओ को रिझा रहे है। कोई नगर पंचायत के अध्यक्ष पद के लिये वोट मांग रहा है तो कोई सभासद के लिए। मतदाताओं का दिल जीतने के लिए सभी पार्टियों के प्रत्याशी दिन रात एक किये हुए है।

भाजपा प्रत्याशी मनोरमा देवी

File Photo: भाजपा प्रत्याशी मनोरमा देवी

भाजपा प्रत्याशी मनोरमा देवी पत्नी मोहन उपाध्याय ने निकाय चुनाव में अपनी जीत पक्की करने के लिए कोई कोर कसर नही छोड़ रही है।प्रचार करने के लिए पार्टी स्तर के तमाम स्टार प्रचारक चुनावी जंग में पार्टी और प्रत्याशी के पक्ष में मतदाताओ को रिझा रहे है। वहीं भाजपा प्रत्याशी मनोरमा देवी ख़ुद सुबह से शाम तक कार्यकर्ताओ की फौज के साथ गली गली घर घर जाकर वोट मांग रही है।

देर रात तक नुक्कड़ सभाओं को भी संबोधित कर रही है। स्थानीय निकाय चुनाव भाजपा के साथ साथ सपा, बसपा और कांग्रेस के लिए भी प्रतिष्ठा का सवाल बना हुआ है। पहली बार निकाय चुनाव में उतरी बसपा भी जोर आजमाइश के साथ जीत की तैयारी में लगी हुई है। बसपा ने स्नेहलता वर्मा को प्रत्याशी बना कर जीत का दांव खेला है।

बसपा प्रत्याशी स्नेहलता वर्मा

File Photo: बसपा प्रत्याशी स्नेहलता वर्मा

वहीं पार्टी कैडर के पदाधिकारी और कार्यकर्ता तूफानी प्रचार में जुटे हुए है। स्नेहलता वर्मा खुद घूम-घूम कर जनता जनार्दन से वोट मांग रही है। समाजवादी पार्टी रुद्रपुर के पूर्व चैयरमैन सुभाषचंद्र मद्देशिया की पत्नी नर्वदा देवी को प्रत्याशी बना कर जीत की तैयारी में है। सपा को इस चुनाव से कुछ ज्यादा ही उम्मीद दिखाई दे रही हैं।

सपा प्रत्याशी नर्वदा देवी

File Photo: सपा प्रत्याशी नर्वदा देवी

वहीं पार्टी के पदाधिकारी और कद्दावर नेता प्रचार का कमान संभाले हुए हैं। वहीं नर्वदा देवी पति सुभाषचंद्र के साथ वोटरों के घर घर जा कर संपर्क में लगी हुई है। कांग्रेस पार्टी भी पूर्व चैयरमैन फौजदार शर्मा की पुत्रवधू लालमती देवी को प्रत्याशी बनाकर जीत का स्वाद चखने के जुगाड़ में लगी हुई है।

फिलहाल प्रत्याशी और समर्थक अपने ही दम पर चुनावी मैदान में डटे हुए है। कांग्रेस पार्टी की तरफ से कोई भी कद्दावर चेहरा प्रचार में नहीं दिख रहा है। नुक्कड़ सभा भी कांग्रेस की फीकी चल रही है। कांग्रेस प्रत्याशी लालमती देवी धुंआधार प्रचार में लगी हुई है। परिवार और समर्थक जीत को पक्का मान के चल रहे है।

कांग्रेस प्रत्याशी लालमती देवी

File Photo: कांग्रेस प्रत्याशी लालमती देवी

निकाय चुनाव जहा सपा, बसपा और कांग्रेस के लिए साख बचाने का सवाल है, वहीं भाजपा के लिए अर्धवार्षिक परीक्षा से कम नही है। क्योंकि इस निकाय चुनाव के परिणाम को भाजपा लोकसभा के चुनाव से जोड़ कर देख रही है। ऐसे में निकाय चुनाव भाजपा के लिए नाक का भी सवाल बना हुआ है।