Bhavna Singh

सियासत के मैदान में सतासी स्टेट की राजमाता

720

— सतासी स्टेट की बहू है भावना सिंह

–राज परिवार के रवि प्रताप नरायन सिंह थे रुद्रपुर के पहले चैयरमैन

–राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सिम्बल पर है चुनावी मैदान में

Priyesh Shukla

प्रियेश शुक्ला

गोरखपुर (रुद्रपुर)। जिस रुद्रपुर को सतासी राज परिवार के लोगो ने सजाया संवारा और अपनी निजी जमीनों में स्कूल, हास्पिटल, तहसील और विधुत घर का निर्माण कराकर जनता के सुख सम्मान का ख्याल रखा। रुद्रपुर को 1867 में नगर पंचायत का दर्जा दिलाने में भी सतासी स्टेट राज परिवार का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

नगर पंचायत बनने के बाद राज परिवार के रवि प्रताप नरायन सिंह रुद्रपुर के पहले नगर अध्यक्ष भी बने। इसके बाद राज परिवार सतासी स्टेट का राजनीति से लंबी दूरी बन गयी। लेकिन सतासी स्टेट रियासत में अचानक सियासत की नई पारी शुरू हो गयी है। जिस सियासत के बीज को रवि प्रताप नरायन सिंह ने बोया था उससे राजनीति का अंकुर निकल कर सामने आगया है।

Bhavna Singh

File Photo: पति के साथ वोट मांगने निकली राजमाता भावना सिंह

रुद्रपुर के नगर पंचायत चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए सतासी स्टेट राज परिवार की राज माता भावना सिंह राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सिम्बल पर चुनावी मैदान में मजबूती के साथ डटी हुई है। जिस राज परिवार ने रुद्रपुर को नगर पंचायत बनाने योगदान दिया और नगर में राजनीति की शुरुआत की थी।

आज उसी राज परिवार की राजमाता और सुशीला देवी पत्नी भारतेंदु सिंह की बहू रुद्रपुर की जनता जनार्दन से वोट मांग रही है। रियासत छोड़ सियासत के मैदान में उतरी भावना सिंह रुद्रपुर की गलियों और चौक चौराहों पर घूम घूम कर जनसमर्थन जुटा रही है। रुद्रपुर की जनता का भरपूर सहयोग भावना सिंह को मिल रहा है। सतासी स्टेट परिवार की बहू और राजमाता होने के चलते लोग सम्मान के साथ सहयोग और समर्थन दे रहे है। भावना सिह सुबह से लेकर शाम तक पैदल ही लोगों से घर घर मिल कर वोट मांग रही है।

चुनाव के दौरान आज भी राज परिवार से जुड़े लोग बड़े ही अदब के साथ भावना सिंह के कदम से कदम मिला कर झंडा बुलंद बुलंद किये हुए है। चुनाव की मुहिम को धार देने का काम भावना सिंह के पुत्र कुँवर गिरिराज सिंह कर रहे है। चुनाव का सारा दारोमदार कुँवर गिरिराज सिंह के ही ऊपर है। डंडा और झंडा लेकर चल रहे समर्थकों के आगे भावना सिंह हाथ जोड़े पति के साथ जनता का अभिवादन करते और स्वीकारते सहयोग और समर्थन की अपील लोगों से करती फिर रही है।

जिस तरह भावना सिंह ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का झंडा बुलंद किया हुआ है। इससे विरोधी सकते में आगये है। बड़े दलों की नींद उड़ चुकी है। नुक्कड़ सभाओं में उमड़ती भीड़ राज परिवार और भावना सिंह के असर को बताता है।

मंच से भी भावना सिंह विरोधियों को मुंहतोड़ जबाब दे रही है। भाजपा से टिकट कटने के बाद मोह भंग होने पर भावना सिह ने एन सी पी का दामन थाम लिया। और आज घड़ी के साथ चुनावी नब्ज पर नजर गड़ाए बैठी है।