BREAKING NEWS
Search
electricity board

दाल मंडी KESA में होता है केवल दलालों का काम, आम आदमी की आवाज सुनने को कोई तैयार नही

316

कई फरीयादी बिजली विभाग में चक्कर काट-काट कर थक जाते हैं। पर उनका काम इस जन्म में होना तो मुश्किल है…

Ajit Pratap Singh

अजित प्रताप सिंह

कानपुर। कहने को तो योगी सरकार में सब कुछ ठीक चल रहा है। पर वास्तविकता मॆ सच क्या है ये केवल जनता ही जानती है। ऐसा ही मामला आज दाल मंडी बिजली विभाग में देखने को मिला।

कई फरीयादी बिजली विभाग में चक्कर काट-काट कर थक जाते हैं। पर उनका काम इस जन्म में होना तो मुश्किल है। दाल मंडी K E S A में यदि आपने दलालों का हाथ थाम लिया तो आपका काम होना तय है। दिन भर दलालों का जमावडा दाल मंडी में लगा रहता है।

आज एक व्यक्ति जिसके घर का मीटर तड़के सुबह 4 बजे शॉर्ट सर्किट की वजह से जल गया। उसका परिवार बाल-बाल बचा। जब उसने इसकी सूचना K E S A के अधिकारियों को दी तो पहले तो वह टाल मटोल करने लगें। फ़िर कहा आज J E साहब अवकाश पर हैं। फ़िर जब फरीयादी ने ये कहा साहब सुबह से घर पर बिजली नही आ रही कृपया आप जांच करवाकर अभी लाइन जुड़वा दीजिये तो AE आर सी गौतम ने प्रमोद नाम के चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी को जले हुए मीटर की जांच करने को भेज दिया।

हालांकि जब प्रमोद जी जांच कर वापस आये तो उनका आरोप था की मीटर में शायद आग लगाई गयी है। मीटर के जले हुए अवशेष भी अपने साथ ले आये जो बाद में उन्होनें ये कहकर वापस कर दिया की जब नया मीटर लगाने वाला आयेगा तो उसे ये जला मीटर दिखाना पड़ेगा। फ़िर उन्होने फरीयादी से 1000 रुपये और अप्लिकेशन ले लियें।

जब फरीयादी ने उनसे 1000 रुपये की रिसिविंग मांगी तो A E साहब भड़क गये और बोले जाओ कल आना क्या पैसों की रिसिविंग मांगना गलत था। जब फरीयादी ने आग्रह किया तो भी उन्होने फरीयादी की एक न सुनी फ़िर बवाल करने पर उन्होने अपने कर्मचारी को भेज कर 980रुपय की रसीद कटवाई और तत्काल अपने लाइन मैन को फरीयादी के घर भेज कर लाइन जुड़वाई।

सवाल केवल यही है की क्या मीटर जल जाने पर ऐसे ग्राहक जो प्रति माह अपने बिल का भुगतान करता हो उसे इस कदर परेशान किया जाना उचित है। क्या K E S A के अधिकारी किसी सभ्य व्यक्ति से ऐसे ही व्यवहार करते है। कुछ ऐसे ही  सवाल है जो आज भी आम आदमी के लिये पहेली बना है।