BREAKING NEWS
Search
flood in shravasti

बाढ़ से पूरे सूबे में मचा हाहाकार….

544
Mithiliesh Pathak

मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। श्रावस्ती जिले की आधी-आबादी में बाढ़ के पानी से मचा हाहाकार। जिधर देखो उधर बस पानी ही पानी।

श्रावस्ती जिले के जमुनहा इलाके से शुरु हुआ जलप्रलय धीरे-धीरे हरिहरपुर, गिलौला और इकौना इलाके के सैकड़ों गांवों को अपनी गिरफ्त में ले लिया है। शनिवार को अचानक आई इस आफत का अंदाजा जिले वासियों के वाशिंदों को नही था।

नेपाल के रास्ते आये सैलाब ने काफी कुछ तबाह कर दिया। अधिक मात्रा में पहुंचे पानी से 50 से अधिक गांव का सम्पर्क मार्ग कट गया। बाढ़ को बढ़ता देख डीएम और एसपी बाढ़ प्रभावित इलाके में डेरा जमाये हुए हैं। NDRF के साथ PAC और स्थानीय पुलिस के जवान बाढ़ प्रभावित इलाके के ग्रामीणों को सुरक्षित जगहों पर पहुँचाने में जुटे हैं। हालांकि जलस्तर में निरंतर वृद्धि से हालात बिगड़ते ही जा रहे हैं।

Flood

Janmanchnews.com

बाढ़ प्राभावित इलाकों का जिले के प्रभारी मंत्री रनवेंद्र सिंह उर्फ धुन्नी सिंह, सांसद दद्दन मिश्रा, विधायक श्रावस्ती राम फेरन पांडेय, भिनगा विधायक असलम राइनी और अधिकारियों ने दौरा किया। इस दौरान पीड़ितों को लांच पैकेट भी वितरित किया। साथ ही संकट का धैर्य के साथ मुकाबला करने और हर सम्भव मदद की बात भी कही।

भिनगा बहराइच फोरलेन मार्ग लक्ष्मण नगर के पास कट जाने से लोगों को परेशानियां हो रही हैं, तो साथ ही मरम्मत का कार्य तेजी से किया जा रहा है। रुक रुक कर हो रही बरसात ने बाढ़ पीड़ितों पर और मुसीबत खड़ी कर दी है।

शनिवार की सुबह एक बार फिर राप्ती के जलस्तर में बढ़ोत्तरी शुरू हुई। जो देखते ही देखते खतरे के निशान के पार पहुंच गई। जो देखते ही देखते ही धीरे धीरे रात भर में इकौना और गिलौला भी पहुंच गया। बाढ़ के पानी के तेज बहाव के चलते कई जगहों पर मुख्य मार्ग कट गये। मल्हीपुर और गिलौला इलाके में पानी मे डूबकर 2 व्यक्तियों की मौत का मामला भी सामने आया है।

flood in shravasti

Janmanchnews.com

अचानक आई बाढ़ से जमुनहा इलाके के राप्ती नदी के किनारे बसे गांवों बेलरी, गंगा भागढ़, गजोवरी, भरथा, चमारन पुरवा , हशनापुर, बरंगा, बीरपुर लौकिह, सरालू पुरवा, शिकारी चौड़, पिपरहवा, जोगिया, समसेर गढ़ , काला, पोंदीला , पोंदली , दुर्गा पुरवा, हरिहरपुर करनपुर, बरुहा सहित सैकड़ों गांव पूरी तरीके से जलमग्न है। सके साथ ही गिलौला और इकौना इलाके के इटवरिया, लैबुड़वा समेत दर्जनों गांव के लोग भी अचानक आईं आपदा से झेल झेल रहे हैं।

ये भी पढ़ें…

काफिल पर बिगड़े योगी- ‘प्राचार्य और तुम खुद आक्सीजन संकट पैदा किए, फिर फोटो खिंचाकर हीरो बनते हो’

आज सूबे के मुखिया जिले का दौरा करने वाले थे, परन्तु अचानक होने वाला दौरा कैंसिल हो गया। वही ग्रामीणों का आरोप है की प्रशासन ने कोई राहत कार्य का काम नहीं किया लोग भूके प्यासे मर रहे हैं। गांव की दुर्दसा बद से बत्तर हो गई है। लोग मचान बना कर ऊपर बैठे गुजर बसर कर रहे हैं।

लेकिन उनका पुरसा हाल कोई नहीं है। जानवरो के चारो की किल्लत हो गई है। जिससे जानवर भी भूखे मर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करें।