pepole raise up against shravasti police

1000 नहीं मिलने पर जमकर पीटा गरीब को, यूपी पुलिस की गुंडागर्दी

186
Mithiliesh Pathak

मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। योगी जी देखिये अपने सिपहसलारों को जिनके हाथ में आपने हमारी सुरक्षा व्यवस्था सौंपी है, जरा गौर से देखिये उनके कारनामो को।

चंद पैसों के लिए कैसे बिक जाता है खाकीधारियों का ईमान। यह हम नही कह रहे बल्कि पुलिस के जुल्मोसितम से तबाह हुआ सूबावासी बोल रहा है। बड़ी शिद्दत से जनता ने चुनी थी आपकी सरकार।

आपने जो सपने दिखाए थें हमने उन सपनों पर भरोशा जताया था। लेकिन आज हमें ये दुर्दिन देखने पड़ रहें हैं। इसका कुछ तो बन्दोबस्त करिए सरकार।

बुधवार की शाम एक पिकप चालक तिलकराम पर कहर बनकर आई। शायद आज के दिन को वह ताउम्र नही भूल पायेगा। गुरबत की जिन्दगी बसर कर रहा तिलकराम पिकप चलाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करता है। आज शाम वह पिकप पर पौधे लेकर गिलौला को जा रहा था। भिनगा कोतवाली क्षेत्र के खरगौरा मोड़ के निकट कुछ पुलिसकर्मी वाहन चेकिंग लगाये हुए थे।

पिकप चालक के पहुंचने पर पुलिसकर्मियों ने उससे वाहन का कागज मांगा। पिकप चालक के अनुसार कागज दिखाने के बाद उसने गाड़ी आगे बढ़ाई तो पुलिस वालों ने 1000 रूपये मांगे। रुपये देने से इंकार करने पर एक दरोगा और एक सिपाही ने उसकी पिटाई शुरू कर दी। उसे इतना पीटा कि वह लहूलुहान होकर बीच सड़क पर ही गिर पड़ा।

आसपास के लोगों ने सुना तो मौके पर हजारों की भीड़ जुट गई। लोगों ने पिकप चालक के समर्थन में जुटकर सड़क पर जाम लगा दिया। मामले की जानकारी मिलने पर CO भिनगा और ASP भी मौके पर पहुंचे और काफी मान मनौवत के बाद मामला शांत हुआ। लेकिन यह घटना अपने साथ कई सवालों को जन्म दे गई।

मसलन योगी सरकार का भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने का दावा झूठा है। बीते 4 माह से पुलिस आखिर वाहन चेकिंग के जरिये हासिल क्या करना चाह रही है। किस गलती पर पिकप चालक को इतनी बेरहमी से पीटा गया। इन सवालों का जवाब तो खाकी वालों को देना ही होगा।

Info@janmanchnews.com

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करें।