BREAKING NEWS
Search
Shravasti road inspection

सड़कों के गुणवत्ता की हो रही जांच, भ्रष्टाचार में संलिप्त ठेकेदार और नेताओं के नाम हो सकते हैं उजागर

327

विधायक ने CM योगी और PWD मंत्री केशव मौर्या से मिलकर सड़क निर्माण के नाम पर हुए सरकारी धन के लूट के जांच की मांग दोहराई थी…

Mithiliesh Pathak

मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। सूबे में भाजपा की सरकार सत्ता में आने के बाद CM बने योगी आदित्यनाथ ने कुर्सी संभालते ही ऐलान किया था की पूर्व की अखिलेश सरकार के दौरान कराए गये हर उस विकास कार्य की जांच कराई जाएगी। जिससे भ्रष्टाचार की बू आती है।

जिसके बाद CM योगी ने तमाम कार्यों की जांच करानी भी शुरू कर दी है। जिससे उन कार्यों के निर्माण में खर्च हुई धनराशि और उसके दुरूपयोग से पर्दा उठना लाजिमी है। 

Read this also…

आधी-आबादी सशक्तिकरण की बेजोड़ झलक, विधायक से लेकर अधिकारी तक सभी महिलाएं….

अखिलेश सरकार के दौरान श्रावस्ती जिले में सड़कों का जाल बिछाया गया। तमाम सम्पर्क मार्गों के साथ ही मुख्य मार्गों का भी निर्माण हुआ। यही नहीं भिनगा-बहराइच के मध्य करीब 30 किमी. का फोरलेन मार्ग भी बनाया गया।

हालांकि करोड़ों की लागत से निर्मित इन मार्गों का जब निर्माण कार्य हो रहा था तभी उनकी गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे थें। लेकिन स्थानीय सपा नेताओं के रहमोकर्म पर पल रहे ठेकेदारों ने सरकारी पैसे की लूट में कोई कोरकसर नहीं छोड़ी। नतीजा निर्मित मार्ग एक बरसात को भी नहीं झेल सके।

Read this also…

‘लालू को राजनैतिक महापाप से बचने के लिए करना चाहिए राजनैतिक पिंडदान’- जदयू

श्रावस्ती में निर्मित फोरलेन समेत लगभग एक दर्जन संपर्क मार्गों के जांच की मांग भिनगा से बसपा विधायक मो. असलम राइनी द्वारा करीब 3 माह पूर्व विधानसभा में उठाया गया था। विधायक ने CM योगी और PWD मंत्री केशव मौर्या से मिलकर सड़क निर्माण के नाम पर हुए सरकारी धन के लूट के जांच की मांग दोहराई थी।

जिसके बाद CM ने TSC की 5 सदस्यीय टीम को सड़कों की जांच के लिए श्रावस्ती भेजा है। जो 3 दिन तक जिले में रहकर सपा सरकार के शासन में बनी हर सड़क के गुणवत्ता की जांच करेगी। जिसके बाद टीम CM को सौंपेगी रिपोर्ट देगी।

सोमवार से शुरू हुई जांच का सिलसिला मंगलवार को भी जारी रहा। इस दौरान TSC टीम ने फोरलेन के आलावा अंधरपुरवा, पटना, दत्तनगर, सिरसिया पहुंचकर सड़कों की खुदाई कराई और नमूने लिए। जांच का यह सिलसिला बुधवार तक जारी रहेगा। उम्मीद की जा रही है की जांच रिपोर्ट आने के बाद भ्रष्टाचार में संलिप्त कई बड़े ठेकेदार और नेताओं के नाम उजागर होंगे।

हालांकि जांच टीम ने इस बारे में कैमरे पर कुछ भी बोलने से साफ साफ इंकार कर दिया। बताया कि जांच रिपोर्ट शासन को सौंप दी जाएगी।