banaras riot

बनारस में हुये हिंसक टकराव के मामले में दो गिरफ्तार, रासुका लगाने की तैयारी

159

महज अफवाह पर वाराणसी में हुये बवाल के मामले में 14 नामजद, 300 अज्ञात पर मुकदमा दर्ज…

Shabab Khan

शबाब ख़ान

वाराणसी: फातमान व महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ मार्ग पर शिक्षक कॉलोनी के पास एक विवादित जमीन पर कब्जा किए जानें की अफवाह पर कल रात दो संप्रदायों के बीच हुए हिंसक टकराव के दौरान पथराव, आगजनी, तोड़फोड़ व धार्मिक उन्माद फैलाने के आरोप में सिगरा पुलिस नें 14 नामजद व 300 अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया है।

कल रात की घटना में आरोपियों के खिलाफ दो मुकदमें दर्ज किए गये है। जिसमें से एक केस अधिवक्ता महेंद्र सिंह उर्फ मंटू सिंह की तहरीर पर लल्लापुरा के मुंशी, तौफीक, सरफराज, रिंकु, मुख्तार, राजू, डॉ. रजा, खुर्शीद, बबलू और सज्जाद सहित 300 अज्ञात के खिलाफ बलवा और डकैती की आठ धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है।

दूसरी ओर सिगरा थानाध्यक्ष की ओर से चार नामजद और कुछ अज्ञात के खिलाफ बलवा, धार्मिक उन्माद फैलाने सहित एक दर्जन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर तत्काल कार्यवाई करते हुए विवादित जमीन के सटे हुए धर्मस्थल के केयर टेकर सज्जाद और उसके पुत्र राजू को सोमवार सुबह गिरफ्तार कर लिया गया, सिगरा पुलिस के अनुसार यह दोनो अफवाह फैलाकर धार्मिक उन्माद भड़काने के मुख्य आरोपी है।

Read this also…

बनारस में धर्मस्थान की जमीन पर कब्जे की अफवाह पर दो संप्रदायों के बीच हिंसक झड़प

इनके अतिरिक्त सीसीटीवी फुटेज, वीडियो फुटेज और फोटो के आधार पर पथराव करने वाले 25 और लोगों की पहचान कर ली गई है, जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस सरगर्मी से उनकी तलाश में जुटी है। इन सभी आरोपियों पर एनएसए (नेशनल सिक्योरिटी एक्ट) के तहत कार्यवाई की तैयारी की जा रही है।

उधर एहतियातन सिगरा से फातमान, लल्लापुरा व विद्यापीठ मार्ग पर पांच थानेदार, पीएसी व क्यूआरटी तैनात रही और क्षेत्र का माहौल सामान्य रहा।

काशी विद्यापीठ के पीछे एक धर्मस्थल से सटी हुई एक जमीन है जिस पर अधिवक्ता महेंद्र कुमार सिंह उर्फ मंटू सिंह काबिज है और वहॉ पर एक मड़ई बनाकर अपनी तीन गायों को बॉधते है। इसी जमीन का मुकदमा न्यायलय में लंबित है जिसमें अधिवक्ता एक पक्ष और धर्मस्थल के केयर टेकर दूसरा पक्ष है।

अधिवक्ता मंटु सिंह का आरोप है कि रविवार नौ बजे केयर टेकर सज्जाद और उसके पुत्र नें यह अफवाह अपने संप्रदाय में फैला दी कि धर्मस्थल की जमीन पर कब्जा किया जा रहा है, जिस पर लल्लापुरा के सैकड़ो लोगो नें आकर वहॉं तोड़फोड़ शुरू कर दी और मड़ई में आग लगा दी। मौके पर मौजूद मंटू सिंह के भतीजे शुभम को मारा पीटा और उनकी सोने की चेन लूट ली।

इसके बाद धर्मस्थल की देखभाल करने वाले सज्जाद और उसका बेटा राजू भागकर लल्लापुरा गए और देखते ही देखते सिगरा थाना के समीप फातमान मार्ग पर सैकड़ों की भीड़ जुट गई। मौके पर पहुंची पुलिस पर भी भीड़ नें पथराव कर दिया और सिगरा थाना-लल्लापुरा मार्ग पर खड़े वाहनों में तोड़फोड़ करने लगे। स्थिति को काबू में करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़ते हुए लाठीचार्ज किया तो कई घंटों में माहौल सामान्य हुआ।

घटनाक्रम को लेकर एसएसपी आरके भारद्वाज ने बताया कि माहौल बिगाड़ने के लिए वाट्सएप और कॉल से शहर में तरह-तरह की अफवाह फैलाई गई थी। भीड़ इकट्ठी करने के लिए धर्मस्थल की दीवार ढहाने, धर्मस्थल में आग लगाने, एक भाजपा विधायक के खड़े होकर धर्मस्थल ढहवाने के साथ-साथ धर्मस्थल को ढहा कर वहां कुछ लोगो द्वारा दूसरा धर्मस्थल बनवाने की बातें कही गईं थीं, जिससे संप्रदाय विशेष के लोगो की भीड़ उग्र हो गई थी।

इधर गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। सोशल मीडिया और अफवाह फैलाने वालों पर क्षेत्रिय थानेदारों और साइबर सेल को नजर रखनें के निर्देश दिए गए है।

Shabab@janmanchnews.com

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करें।