BREAKING NEWS
Search
Jeep truck accident

पशुओं से भरे ट्रक को पकड़ने पहुँचे पुलिस पर गॉंव वालों नें किया हमला, जीप क्षतिग्रस्त

267

दिलशाद अहमद,

वाराणसी: जंसा थानाक्षेत्र के जगापट्टी गांव मे रात 9 बजे पशुओं को ट्रक में चढ़ाया जा रहा था, जिसकी सूचना किसी नें जंसा थाने को दी। आनन-फानन में एसओ संतोष कुमार राय मौके पर पहुँच गये। अभी वह तफ्शीश कर ही रहे थे कि गांव वालों नें एसओ संतोष कुमार के ऊपर हमला बोल दिया। पर्याप्त पुलिस बल के मौके पर न होने के कारण एसओ और हमराही सिपाहियों को पीछे हटना पड़ा। जिससे गॉव वालो का मन बढ़ गया और भीड नें एसओ जंसा की जीप को क्षतिग्रस्त कर दिया।

पुलिस पर हुये हमले की सूचना पर भारी पुलिस बल के साथ कप्तान नितिन तिवारी मौके पर पहुंच गये, और घर-घर तालाशी करवाकर आरोपियों की धर-पकड़ शुरू कर दी। पशुओं सें भरा ट्रक इस आपाधापी में खाली हो गया, गॉंव वालों नें पशुओं को खेत-खलिहान में कहीं छिपा दिया था, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है। खाली खड़े ट्रक को पुलिस नें सीज़ कर दिया है, हालांकि उसका ड्राईवर-खलासी भी गाड़ी को छोड़कर भाग खड़े हुए।

खबर लिखे जाते समय तक पुलिस जगापट्टी गॉंव में कैंप किए हुए थी, गॉंव के हर घर को खुलवाकर उसमें तलाशी कराई जा रही थी, ज्यादातर घरों में महिलांए ही मौजूद, घर के पुरुष सदस्य घर छोड़कर फ़रार हो गये थे। हमलावर गॉंव वालों पर कानूनी कार्यवाई को लेकर शासन-प्रशासन आपस में विचार-विमर्श कर रहे थे।

वाराणसी पुलिस अधिक्षक नितिन तिवारी का कहना था कि हमलावर लोगों की पहचान करा कर उनके विरुद्ध कड़ी कार्यवाई करी जाएगी, एवं सुबह होने के बाद पशुओं को भी पुलिस ढूँढ निकालेगी। लेकिन जंसा थाना प्रभारी का क्या जिन्होनें बिना पर्याप्त पुलिस फोर्स के मौके पर छापा मार दिया, लेकिन गॉंव वालों के भारी पड़ते ही पीछे हट गए, फलस्वरुप पुलिस संपत्ति का अच्छा-खासा नुकसान हुआ, इस विषय पर बात करने का समय फिलहाल अभी नही है।

लेकिन सवाल उठेगा जरूर क्योकि पशु तस्कर इस अापाधापी में रफुचक्कर होने में कामयाब हो गये। इस घटना में शर्तिया वे गॉंव वाले भी धराएंगें जिनका इस मामले से कोई लेना-देना नही है। इन सबका जिम्मेदार कौन हुआ? शायद वो जो फटाफटा पशु तस्करों को धर कर अपनें खाते में गुडवर्क जुड़वाने के चक्कर में जरा सी जल्दबाजी कर बैठे।