BREAKING NEWS
Search
modi visit kashi

पीएम मोदी 22 व 23 सितंबर को होगें अपनें संसदीय क्षेत्र काशी में, विभिन्न परियोजनाओं का करेगें उद्घाटन और लोकार्पण

526

वाराणसी के प्रशासनिक अमले में देखी जा रही है हलचल, पीएमओ नें किये हैं प्रधानमंत्री के दौरे में परिवर्तन, अंतिम रूप से कार्यक्रमों की घोषणा फिलहाल नही…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

वाराणसी: पिछले महीने से यह कायस लगाए जा रहे थे कि अपना जंमदिन (17 सितंबर) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र पवित्र नगरी काशी में मनायेगें, और उसी दौरान रामनगर-बनारस शहर को जोड़ने वाला नया सामनेघाट पुल भी फीता काटकर देशवासियों को समर्पित करेगें। लेकिन अंतिम समय में पीएमओ नें पीएम के इस बार के काशी दौरे की तिथियों में परिवर्तन कर दिया। अब प्रधानमंत्री 22 व 23 सितंबर को बनारस में होगें।

वाराणसी प्रशासन प्रधानमंत्री के दौरे के मद्देनजर दिन-रात तैयारियों मे लगा है, हालांकि प्रधानमंत्री कार्यालय नें अभी तक यह सूचना नही भेजी है जिससे पता चल सके कि पीएम कौन-कौन से कार्यक्रमों और किस परियोजना का लोकार्पण व उद्घाटन करेगें, बाबजूद इसके मौजूदा जानकारियां के आधार पर प्रशासन तैयारियां कर रहा है।

पिछले निर्देश के मुताबिक प्रधानमंत्री 15 परियोजनाओं का लोकार्पण और 5 परियोजनाओं का शिलान्यास वाराणसी के प्रसिद्ध डीज़ल रेलवे इंजन बनानें वाले डीएलडब्लु (डीज़ल लोकोमोटिव वर्क्स) के मैदान से करने वाले थे। इसके अलावा दो परियोजनाओं का लोकार्पण बड़ा लालपुर में होना था। बाद में प्राप्त सूचना से पता चला है कि पीएम अब सभी विकास योजनाओं का लोकार्पण 22 सितंबर को बड़ा लालपुर में ही करेगें।

हालांकि उक्त परिवर्तन की पुष्टि पीएमओ की ओर से होना बाकी है, और अधिकारिक प्रोटोकोल जारी न होने के कारण वाराणसी के प्रशासनिक अधिकारी कुछ कहनें से बच रहे हैं लेकिन इतना जरूर बताया कि पीएमओ नें प्रधानमंत्री द्वारा किये जाने वाले परियोजनाओं के लोकार्पण व शिलान्यास को एक ही जगह से कराने के निर्देश दिए हैं, इसके मद्देनजर डीएलडब्लु इंटर कॉलेज मैदान पर प्रस्तावित लोकार्पण कार्यक्रम को बड़ा लालपुर शिफ्ट कर दिया गया, जबकि 23 सितंबर को डीएलडब्लु खेल मैदान पर प्रस्तावित कार्यक्रम यथावत रखे गए हैं।

तैयारियों में लगे अधिकारियों का कहना है कि एसपीजी के बनारस आ जाने के बाद पीएमओ से मिनट टू मिनट प्रोटोकाल जारी होगा। फिलहाल तैयारियों को जल्द से जल्द अंतिम रूप देने पर सभी का ध्यान है।

डीएलडब्लु मैदान पर बॉस-बल्लियां लगाकर वाटरप्रूफ टेंट लगाने की तैयारियां चल ही रही थीं कि पीएमओ का कार्यक्रमों को लेकर नया फरमान आ गया जिसके चलते डीएलडब्लु मैदान पर काम रुकवा दिया गया, और प्रशासनिक अमले नें बड़ा लालपुर की ओर रुख़ किया। फिलहाल वहॉ भी बॉस-बल्लियॉ लगाकर वाटरप्रूफ टेंट लगाने की तैयारियॉ चल रहीं है।

प्रधानमंत्री मोदी यहां प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र देंगे। किसान ऋण मोचन योजना के अंतर्गत आनें वाले किसानों को भी प्रमाण पत्र दिया जायेगा। पीएम का बनारस के बीजेपी कार्यकर्ताओं, प्रबुद्धजनों, मुस्लिम महिलाओं से मुलाकात का कार्यक्रम भी निर्धारित है। वहीं, बड़ालालपुर, शाहंशाहपुर और अस्सी घाट पर भी तैयारियों ने जोर पकड़ लिया है।

बांस बल्ली गाड़ने, पंडाल और मंच बनाने के साथ ही कार्यक्रम स्थलों की ओर जाने वाली सड़कें चमकाई जा रही हैं। स्ट्रीट लाइट और डिवाइडरों का रंगरोगन कराया जा रहा है। पेड़ की डालियां छांटी जा रही हैं। हेलीपैड बनाए जा रहे हैं। आला अधिकारियों की दौड़-भाग पूरे चरम पर है।

प्रधानमंत्री के आगमन के मद्देनजर अपर मुख्य सचिव, बेसिक शिक्षा, भूतत्व खनिकर्म एवं कृषि उत्पादन आयुक्त राजप्रताप सिंह सोमवार को शाहंशाहपुर पहुंचे। मुख्यमंत्री के निर्देश पर आए अपर मुख्य सचिव ने शाहंशाहपुर में पीएम के कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया।

साथ ही, यहां गंगातीरी गायों के लिए बनी गौशाला देखी। सभास्थल और हेलीपैड का जायजा लेने के बाद उन्होंने विभागीय अधिकारियों से यहां आयोजित होने वाले मेले और गौशाला की व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली।

समय से पहले सभी तैयारियां हर हाल में मुकम्मल करने के निर्देश दिए। शाहंशाहपुर का जायजा लेने के बाद अपर मुख्य सचिव ने लश्कर गांव और संसारपुर की मुसहर बस्ती का निरीक्षण किया। अपर मुख्य सचिव के इन गांवों में जाने के बाद संभावना जताई जा रही है कि शाहंशाहपुर में कार्यक्रम के बाद पीएम इनमें से किसी एक जगह जा सकते हैं। हालांकि अधिकृत तौर पर इस बारे में कोई सूचना नहीं आई है।