BREAKING NEWS
Search
Chinese Manjha

वाराणसी डीएम चाईनीज़ मॉझे को लेकर सख्त, कहा- यदि बिका तो नपेगें थानेदार

549

पक्षियों के पंख कतर रहा है मौत का मॉझा, दोपहिया वाहन चलाते समय रहें सावधान

ताबिश अहमद की रिपोर्ट,

वाराणसी: एक घटना में, साची गोयल, 3 वर्षीय बच्ची वाराणसी-इलाहाबाद हाईवे पर एक कार में अपने माता-पिता के साथ स्वतंत्रता दिवस की शाम को यात्रा कर रही थी। साची कार के सनरूफ से बाहर की तरफ देख रही थी जब उसकी गर्दन पर पतंग का मांझा आकर टकराया और मांझे ने उसके गले को काट दिया। मेडिकल रिपोर्ट में कहा गया कि मांझे ने लड़की की वोकल कोर्ड और विंडपाइप को काट दिया, जिससे उसकी तुरंत मौत हो गई।

इस मामले में लापरवाही के लिए धारा 304 (ए) के तहत पंजीकृत किया गया था और पुलिस जॉच में सामने आया कि वह ‘चीनी मांझा’ है, जिसने बच्ची के जीवन को असमय खत्म कर दिया। यह पहली घटना नही है।

पिछले तीन-चार वर्षों में चीनी मांझा (पतंग की डोर) के बढ़ते उपयोग के साथ, मानव और साथ ही पक्षियों में हताहतों की संख्या भी प्रत्यक्ष अनुपात में बढ़ी है। चीनी मांझा बहुत मजबूत होता है क्योंकि यह प्लास्टिक के बने होते हैं और कांच में लेपित होते हैं, भारत के कपास से बने पारंपरिक मांझे के विपरीत यह नायलॉन फिलामेंट का का उपयोग करके तैयार किया जाता है जिसे रसायनों और कांच के साथ लेपित किया जाता है, जिससे यह उस्तरे की तरह तेज धारदार और घातक बन जाता है। जिससे यह पतंगों को आसानी से काटने में सक्षम हो जाता है।

पतंगें लड़ाने के लिए लाखों लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला चीनी मांझे के कारण मानव और पक्षी की मृत्यु सैकड़ों में हो गई है।

इसके अलावा, यह बायोडिग्रेडेबल नही है, यह लंबे समय तक पर्यावरण में विघटित नहीं होता है। इसलिए, इस तरह के खतरनाक आइटम को देश भर में सख्त कार्यान्वयन के साथ प्रतिबंधित किया जाना चाहिए था, घटनाओं से सबक लेकर प्रशासन नें इसके खरीद-बिक्री पर पूरी तरह रोक लगाया हुआ है।

लेकिन प्रतिबंधित होने के बावजूद भी इसे चोरी-छिपे बेचा जा रहा हैं, उसकी बिक्री तथा उससे हो रही रोजाना दुर्घटनाओं पर जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्रा सख्त हो गए है। उन्होंने इसे गंभीरता से लेते हुए इसके अवैध बिक्री पर रोक लगाए जाने हेतु बिक्री करने वालों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही किए जाने का थाना प्रभारियों को निर्देश दिया है। डीएम ने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा है कि जिस थाना क्षेत्र में चाइनीज मांझा की अवैध बिक्री होते पाया गया, संबंधित थाना प्रभारियों के विरुद्ध भी कड़ी कार्यवाही किया जाएगा।

उन्होंने ने क्षेत्रीय मजिस्ट्रेटों से भी चाइनीज मांझा को अवैध तरीके से बेचने वालों के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने हेतु व्यापक छापेमारी किए जाने का निर्देश दिया है। ताकि चाइनीज मंझा की बिक्री किसी भी दशा में ना होने पाए।